25.1 C
Delhi
Friday, September 17, 2021

Latest Posts

बहू बनकर आती हैं, लूटकर चली जाती हैं जानिए हैरान कर देने वाली ये कहानियां

24 जुलाई-नई दिल्ली(प्रधुम्न कौशल) | पंजाब में ऐसे हजारों मामले सामने आए हैं, जिनमें परिवार चाहते थे कि उनका बेटा भारत से दूर कनाडा, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में सेटल हो जाए और अपनी नई जिंदगी को शुरू करे और ये सपना आप में से भी कई लोग देखते होंगे। आपको भी लगता होगा कि Quality of Life तो इन्हीं देशों में है।

हमारे देश में बड़े बुज़ुर्ग और माता-पिता अक्सर ये बात कहते हैं कि बेटा हमने तो जैसे-तैसे इस देश में अपना जीवन बिता लिया, लेकिन तुम ऐसा मत करना और पंजाब में भी हज़ारों परिवारों ने यही सोचा था।

इसके लिए इन परिवारों ने ऐसी लड़कियों से अपने बेटों की शादी कराई, जो विदेशों में जाकर पढ़ सकती थीं और फिर वहां सेटल होने के बाद अपने पति को भी वहां बुलाकर एक खुशहाल जीवन शुरू कर सकती थीं। इन परिवारों ने इन लड़कियों को पहले अपने घर की बहू बनाया और उनके विदेश में रहने, पढ़ने और दूसरी तरह के खर्च उठाए, लेकिन जब इन परिवारों की ये पुत्रवधु इन देशों में सेटल हो गईं, तो उन्होंने अपने पति और उसके परिवार से मुंह मोड़ लिया। यानी ये सारी लड़कियां नटवरलाल हसीनाएं निकलीं।

ठगी के 3600 मामले


विदेश मंत्रालय में अब तक ऐसे 3600 ठगी के मामलों में शिकायत हो चुकी है और हैरानी की बात ये है कि इनमें से लगभग 90 प्रतिशत यानी 3 हजार मामले अकेले पंजाब से हैं। यानी पंजाब में इस समय ऐसी दुल्हनों की वजह से हजारों परिवार संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन ये लड़कियां अब विदेशों में सेटल हो गई हैं और इन परिवारों को बहुत पीछे छोड़ चुकी हैं। इनके लिए ये परिवार अब मायने ही नहीं रखते।

कहा जाता है कि पंजाब में लगभग हर परिवार की ये तमन्ना होती है कि उनके परिवार का एक सदस्य कनाडा, ब्रिटेन, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया देशों में जाकर रहे और इसके लिए वो लाखों रुपये खर्च करने के लिए तैयार होते हैं।

पंजाब में लोग विदेशों में बसने के लिए अपनी पुश्तैनी जमीन, घर और कीमती आभूषण तक बेच देते हैं और इसे वहां गलत नहीं माना जाता, बल्कि ये पंजाब में एक फैशन सा बन गया है।

विदेशों में सेटल कराने के लिए खर्च किए करोड़ों रुपये


एक स्टडी कहती है कि अकेले पंजाब में पिछले कुछ वर्षों में हज़ारों परिवारों ने इन लड़कियों को विदेशों में सेटल कराने से लेकर, उन्हें पढ़ाने-लिखाने तक 150 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

सोचिए, 150 करोड़ रुपये इन लोगों ने सिर्फ इस उम्मीद में खर्च कर दिए कि एक दिन ये लड़कियां उनके बेटों को भी वहां बुला लेंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। टीम ने जब पंजाब में जाकर इस खतरनाक ट्रेंड की पड़ताल की तो पता चला कि इस पूरे मामले के पीछे IELTS यानी International English Language Testing System का एग्जाम है।

दरअसल, जो भारतीय छात्र और छात्राएं ब्रिटेन, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड की यूनिवर्सिटीज में पढ़ाई करना चाहते हैं। उनके लिए इस एग्जाम को पास करना जरूरी होता। इसके अलावा फ्रांस और आयरलैंड की कुछ यूनिवर्सिटीज में भी एडमिशन के लिए ये टेस्ट जरूरी है। इस टेस्ट में अंग्रेजी भाषा बोलने, लिखने और सुनने की स्किल का टेस्ट किया जाता है।

पड़ताल के दौरान पता चला कि पंजाब के जो नौजवान इस एग्जाम में पास नहीं हो पाते। वो ऐसी लड़कियों की तलाश करते हैं, जो इसमें पास हो चुकी होती हैं और पंजाब में ऐसी लड़कियों को ढूंढना मुश्किल नहीं होता।

ऐसे बनाया जाता है लोगों को शिकार


पंजाब में हर दिन अखबारों में इस तरह की लड़कियों के ढेर सारे विज्ञापन छपते हैं और लोग आसानी से इनके शिकंजे में फंस जाते हैं।

बड़ी बात ये है कि इन लड़कियों के साथ एक तरह से कॉन्ट्रैक्ट मैरिज की जाती है। इसमें लड़की ये वादा करती है कि वो विदेश में सेटल होने के बाद अपने पति को वहां Spouse Visa पर जरूर बुलाएगी, लेकिन कॉन्ट्रैक्ट मैरिज जैसा कुछ नहीं है या तो कॉन्ट्रैक्ट होता है या मैरिज होती है, लेकिन जब ये दोनों साथ हों, तो धोखाधड़ी की गारंटी 100 प्रतिशत पक्की है। हालांकि इस मामले में कई परिवारों को उम्मीद थीं कि उनकी पुत्र वधु Spouse Visa पर उनके लड़कों को वहां बुला लेंगी।

Spouse Visa को एक तरह से Dependent Visa भी कहा जाता है। इस वीजा का इस्तेमाल फैमिली के लिए किया जाता है।

एक अनुमान के मुताबिक, ठगी के इन मामलों में हर परिवार ने एक लड़की पर 50 लाख रुपये तक खर्च किए और इस ख़र्च का पूरा लेखा-जोखा भी आज हम आपको बताना चाहते हैं।

  • कनाडा, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की यूनिवर्सिटीज में पहले साल की पढ़ाई का ख़र्च औसतन 18 लाख रुपये होता है।
  • एजुकेशन के लिए पंजाब से हर साल 27 हज़ार करोड़ रुपये दूसरे देशों में भेजे जाते हैं।
  • घर और गाड़ी जैसे दूसरे ख़र्चों के लिए हर साल 30 हज़ार करोड़ रुपये पंजाब से दूसरे देशों में भेजे जाते हैं।
  • अगर सभी रूप में बात करें, तो पंजाब से हर साल 67 हज़ार करोड़ रुपये विदेशों में भेजे जाते हैं।

हालांकि यहां एक बड़ी बात ये है कि इन देशों से हर साल पंजाब को वापस 90 हज़ार करोड़ रुपये मिलते हैं। यानी खर्च हुई रकम के मुकाबले पंजाब 23 हज़ार करोड़ रुपये के फायदे में रहता है और शायद यही वजह है कि राज्य सरकार भी ऐसे मामलों में ज़्यादा सक्रिय नहीं दिखती।

ठगी का शिकार हुए परिवारों की कहानी


ठगी का शिकार होने वाले कई परिवारों का ये कहना है कि ऐसे मामलों में पुलिस के पास कार्रवाई के ज़्यादा विकल्प नहीं होते क्योंकि, ये लड़कियां दूसरे देशों में सेटल होने के बाद वापस फिर कभी लौट कर नहीं आतीं और जो बीच में दलाल होते हैं, वो भी बड़ी चालाकी से बच जाते हैं और ये पूरा मामला एक ऐसे मोड़ पर पहुंच जाता है, जहां आगे की सड़क ही नहीं है।

पंजाब की नौजवान पीढ़ी विदेश जाने के लिए कई तरीके अपना रही है। अब ज्यादातर नौजवान, लड़कियों का सहारा ले कर विदेश जाना चाहते हैं। उनकी यही चाहत कमजोरी बनती जा रही है और वो अब ठगी का शिकार हो रहे हैं।

ठगी के कुछ ऐसे ही किस्सों से आपको रुबरू कराते हैं।


  • पहली कहानी के लिए जालंधर-फिरोजपुर हाईवे पर बसे गांव तलवंडी भाई की है। लड़की के शादी के बाद विदेश जाने का विज्ञापन देख कर तलवंडी भाई के अमृतपाल सिंह ने अपने बेटे ओंकार सिंह की शादी मोगा की जसप्रीत कौर के साथ तय कर दी। शादी से पहले ही उन्होंने बेटे और होने वाली बहू के विदेश जाने की औपचारिकताएं भी पूरी की।

दोनों 14 अगस्त 2019 को कनाडा भी चले गए, लेकिन कनाडा जाने के करीब एक सप्ताह के बाद ही अमृतपाल सिंह को जानकारी मिली कि उनकी बहू ने ओंकार को शारीरिक उत्पीड़न के आरोप में जेल भिजवा दिया है। पीड़ित पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि उनके बेटे को तलाक न देने की सूरत में जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

अमृतपाल सिंह ने शादी कराने और विदेश भेजने पर तकरीबन 45 लाख रुपये खर्च किए। बाहर जाने के लिए 16 लाख बैंक में जमा करवाए, लेकिन बेटे के विदेश जाने के चक्कर में लाखों की धोखाधड़ी के शिकार हो गए। पुलिस ने इस मामले में कनाडा रह रही जसप्रीत कौर और उसके परिवार के पांच अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच कर रही है।

  • दूसरी कहानी लुधियाना जिले के सुखविंदर सिंह की है। सुखविंदर सिंह की शादी 5 फरवरी 2020 को जसमीन कौर से हुई थी। सुखविंदर के पिता से एक डेरा के संत ने सुखविंदर की शादी की बात की। सुखविंदर ने उनको हां कर दी, सगाई के बाद जसमीन ने विदेश जाने की इच्छा जताई। जिसे सुखविंदर के परिवार ने पूरी कर दी, लेकिन शादी के बाद जो हुआ उससे परेशान होकर सुखविंदर ने आत्महत्या तक की कोशिश की।

कॉन्ट्रैक्ट मैरिज कर विदेश जाने का खतरनाक ट्रेंड


आइए जानते हैं कि कैसे खास किस्म के गैंग बड़े शातिर तरीके से पंजाब के भोले-भाले लोगों को विज्ञापन के जरिए अपना शिकार बना रहा है। ये साफ है कि पंजाब में कॉन्ट्रैक्ट मैरिज कर विदेश जाने का ट्रेंड खतरनाक हो चुका है। हर दिन औसतन करीब 3 से 4 लड़के विदेश में सेटल होने वाली लड़की से ठगे जा रहे हैं। पिछले पांच साल में 3600 से ज्यादा युवा ऐसी ठगी का शिकार हो चुके हैं।

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.