किसानों का अगला टारगेट होगा पश्चिम बंगाल का चुनाव ? राकेश टिकैत ने कहा- बीजेपी के लोग हारें तो होगी किसान आंदोलन की जीत

0
2

17 फरवरी, फरीदाबाद । राजनीतिक पार्टियों के साथ ही किसान संगठन भी पश्चिम बंगाल के चुनावी दंगल में कूदने को तैयार हैं। केंद्र सरकार के लाए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों का अगला लक्ष्य बंगाल चुनाव है। किसान नेताओं ने ऐलान किया है कि वे चुनावी राज्य पश्चिम बंगाल में भी सभाएं करेंगे। किसान नेता राकेश टिकैत ने भी बोला है कि हम पूरे देश का दौरा करेंगे और पश्चिम बंगाल भी जाएंगे। वहीं एक किसान नेता ने संकेत भी दिया कि वे जनता से ऐसे लोगों को वोट नहीं देने को कहेंगे जो किसानों की आजीविका छीन रहे हैं। किसान नेताओं ने यह भी कहा कि अगर पश्चिम बंगाल में बीजेपी के लोग हार जाते हैं तो उनका आंदोलन सफल होगा।
किसान नेताओं ने मंगलवार को गढ़ी सांपला में किसान महापंचायत ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए बोला कि कई अन्य राज्यों की तरह वे जल्दी ही पश्चिम बंगाल का भी दौरा करेंगे।
भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) नेता राकेश टिकैत ने एक सवाल के जवाब में बोला कि ‘हम पूरे देश का दौरा करेंगे, हम पश्चिम बंगाल भी जाएंगे। पश्चिम बंगाल में भी किसान समस्याओं का सामना कर रहे हैं। उन्हें अपनी फसलों के लिए उचित कीमतें नहीं मिल रही हैं।’
टिकैत ने महापंचायत को संबोधित करते हुए बोला, ‘हम देश भर में भी पंचायतों का आयोजन करेंगे। हम गुजरात, महाराष्ट्र, अन्य स्थानों पर जाएंगे… हम पश्चिम बंगाल जाएंगे और वहां भी एक बड़ी सभा करेंगे। पश्चिम बंगाल के किसान राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र के साथ कुछ समस्याओं का सामना कर रहा है। हम वहां भी एक पंचायत आयोजित करेंगे।’
यह पूछे जाने पर कि क्या यात्रा पश्चिम बंगाल के आगामी विधानसभा चुनावों से जुड़ी होगी, टिकैत ने बोला कि ‘यह मामला नहीं है, हम किसानों के मुद्दों को लेकर वहां जाएंगे।’
हालांकि, हरियाणा भारतीय किसान यूनियन बीकेयू के प्रमुख गुरनाम सिंह चढूनी ने महापंचायत को संबोधित करते हुए लोगों से अपील की, कि वे पंचायत से संसद तक के चुनाव में ऐसे किसी व्यक्ति को वोट नहीं दें जो प्रदर्शनकारी किसानों की मदद नहीं करते हैं और उनके आंदोलन को समर्थन नहीं देते।
बाद में राकेश टिकैत और कुछ अन्य किसान नेताओं के साथ पत्रकारों से बातचीत करते हुए गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा, ‘जहां तक ​​पश्चिम बंगाल का संबंध है, अगर भाजपा के लोग हार जाते हैं, तभी हमारा आंदोलन सफल माना जाएगा। पश्चिम बंगाल में भी लोग कृषि पर निर्भर हैं। हम वहां जाएंगे और किसानों से आग्रह करेंगे कि वे उन्हें वोट नहीं दें जो हमारी आजीविका छीन रहे हैं।
राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व कर रहे 40 नेता पूरे देश का दौरा करेंगे ताकि आंदोलन को समर्थन मिले। गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि सरकारें लोगों से ऊपर नहीं हैं और उन्हें आंदोलन कर रहे किसानों की मांगों को स्वीकार करना होगा। उन्होंने कहा, ‘हमें तब तक लड़ना है जब तक हमें अपने अधिकार नहीं मिल जाते, भले ही इसका मतलब अंतिम सांस तक लड़ना हो।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here