राज्यसभा में हंगामा कर रहे आम आदमी पार्टी के तीनों सांसद हुऐ निष्कासित, लगा रहे थे ‘कृषि कानूनों को रद्द करो’ के नारे

0
2

3 फरवरी, फरीदाबाद । किसानों के मुद्दे को लेकर राज्यसभा में भारी हंगामा कर रहे आम आदमी पार्टी (AAP) के तीनों सांसद संजय सिंह, सुशील कुमार गुप्ता और एन.डी. गुप्ता को आज दिन भर के लिए निष्कासित किया गया। सभापति एम. वेंकैया नायडू ने शून्यकाल काल के बाद राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा कराने का प्रयास किया तो आम आदमी पार्टी के तीनों सांसद अपनी सीटों पर खड़े होकर ‘कृषि कानूनों को रद्द करो’ के नारे लगाने लगे।
वैंकैया नायडू ने कहा कि अभिभाषण पर चर्चा के दौरान ही किसानों के मुद्दे पर बहस करने की सहमति बन चुकी है। ऐसे में इन सदस्यों का सदन की कार्यवाही को बाधित करना अनुचित है। ये लोग वास्तव में किसानों के मुद्दे पर चचार् नहीं करना चाहते हैं। उन्होंने तीनों सदस्यों से शांत होने और सदन की कार्यवाही चलने देने का अनुरोध किया, लेकिन इस पर भी तीनों सांसद नारे लगाते रहे।
इसके बाद उन्होंने तीनों सांसदों को नियम 255 के तहत सदन की कार्यवाही से बाहर करने की चेतावनी दी लेकिन सदस्यों पर इसका भी कोई प्रभाव नहीं पड़ा और वे नारे लगाते रहे। इस पर सभापति ने कहा कि इन तीनों सदस्यों को सदन की कार्यवाही से दिनभर के लिए बाहर कर रहे हैं और उन्होंने तीनों सदस्यों को दिन भर के लिए सदन से बाहर जाने का आदेश दिया और सदन की कार्यवाही 9:30 बजे पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।
संसद के बजट सत्र का आज तीसरा दिन है और किसानों के मुद्दे पर आज भी हंगामा होने के आसार नजर आ रहे हैं। राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हो गई है। आज एक बार फिर से संसद में किसान आंदोलन और कृषि कानूनों पर घमसान देखने को मिल सकता है। कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद ने 19 पार्टियों की ओर से किसानों के मुद्दे पर चर्चा कराने का प्रस्ताव रखा। वहीं, संसद के दोनों सदनों में आज राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा होनी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 8 फरवरी को राज्यसभा में राष्ट्रपति के भाषण पर चर्चा का जवाब देंगे।
किसानों के आंदोलन और उनसे जुड़े मुद्दे पर चर्चा के लिए सरकार और विपक्ष में सहमति बन गई है। सरकार और विपक्ष में बनी सहमति के मुताबिक, राज्यसभा में किसानों के मुद्दे पर 15 घंटे तक चर्चा होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here