किसान आंदोलन : सिंघु बॉर्डर पर संत बाबा राम सिंह ने कथित तौर पर की खुदकुशी

0
26

17 दिसंबर – फरीदाबाद | नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का प्रदर्शन जारी है| इस बीच बुधवार शाम को सिंधु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में संत बाबा राम सिंह ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली| पीड़ित संत बाबा राम सिंह (65 साल) करनाल जिले के सिंघरा गांव के रहने वाले थे| उन्होंने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमें कहा है कि वह किसानों की दुर्दशा को देख नहीं सकते, जो हाल ही में पारित कृषि बिल के विरोध में राष्ट्रीय राजधानी के बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं| पुलिस इस पर्ची की सत्यता की जाँच कर रही है|

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि “हमारे पास अभी तक ऐसी कोई भी आधिकारिक जानकारी नहीं आई है| पूछताछ के दौरान पता चला है कि उन्हें करनाल के सिविल अस्पताल ले जाया गया था| वहाँ उन्हें मृत घोषित कर दिया गया पुलिस बयान दर्ज कर रही है” बीबीसी के सहयोगी सत सिंह के अनुसार करनाल के एसपी गंगा राम पूनिया ने कहा कि शव करनाल के सिविल अस्पताल पहुंच चुका है और पोस्टमॉर्टम हो रहा है|

मृतक के साथी जोगा सिंह ने बीबीसी पत्रकार ख़ुशहाल लाली को बताया कि उन्होंने ख़ुद को गोली मार ली थी| जोगा सिंह ने कहा, “वे दूसरी बार धरना स्थल पर गए थे| वे किसानों की परेशानी को देखकर काफ़ी दुखी थे” सिंघड़ा गाँव के सरपंच नवदीप सिंह ने बताया कि बाबा राम सिंह के बड़ी संख्या में समर्थक थे और वो गुरद्वारे में ही रहते थे| उन्होंने बताया, “वे लगातार दिल्ली-हरियाणा के बॉर्डर पर धरने के लिए जा रहे थे और किसानों के चल रहे इस संघर्ष को लेकर काफ़ी दुखी थे|”

संत बाबा राम सिंह की मौत पर नेताओं ने जताया दुख
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि ‘सिंघु बॉर्डर पर चल रहे किसानों के संघर्ष के दौरान संत राम सिंह की ये खबर हैरान कर देने वाली है|’ वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर लिखा – “संत बाबा राम सिंह की खुदकुशी की खबर बहुत दुख की बात है| हमारे किसान केवल अपना हक माँग रहे हैं, सरकार को उनकी बातें सुननी चाहिए और तीनों काले कानूनों को वापस ले लेना चाहिए|”

अकाली दल ने भी राम सिंह की मौत पर दुख ज़ाहिर किया है| अकाली दल से जुड़े दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि राम सिंह की मौत ने सभी को झकझोर दिया है| वहीं राम सिंह की मौत के लिए सरकारी उदासीनता को ज़िम्मेदार ठहराते हुए विपक्षी नेता राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को तुरंत कानून रद्द करने चाहिए| अकाली दल ने भी राम सिंह की मौत पर दुख ज़ाहिर किया है|

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here