शराब का ठेका हटाने को लेकर महिलाओं ने प्रशासन को दी चेतावनी

0
123
न्यूज़ एनसीआर, 18 अप्रैल-फरीदाबाद | फरीदाबाद शहर की महिलाओं ने एक बार फिर से सेक्टर 48 गीता सोसाइटी के सामने से शराब के ठेके को वहाँ से हटाने व भविष्य में वहाँ फिर से दोबारा ठेका न लगने को लेकर मोर्चा खोलते हुए शहर के आबकारी आयुक्त कार्यालय के बाहर खूब विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं का आरोप है कि प्रसाशन उन्हें गुमराह करके उनकी आवाज को दबाने की पुरजोर कोशिश कर रहा है।
आपको ज्ञात होगा कि, सेक्टर 48 शराब के ठेके का फिर से आवंटन ना हो इसको लेकर संस्कार फाउंडेशन ने उप आबकारी व कराधान आयुक्त एसपीएस चौहान को ज्ञापन सौंपा था। ज्ञापन देते हुए संस्कार फाउंडेशन की संयोजक परमिता चौधरी ने आबकारी आयुक्त को बताया कि, इस शराब के ठेके को हटाने को लेकर हमने 1 सितंबर से 15 सितंबर 2018 को सभी सेक्टर 48 निवासियों ने आंदोलन किया था और वह आंदोलन एक जन आंदोलन बन चुका था। जिसको लेकर फिर प्रशासन और आंदोलनकारियों के बीच फैसला हुआ, प्रशासन ने समझौते में कहा कि यहां पर जो अहाता है हम उसे हटा देते हैं। जब दोबारा से इस ठेके का आवंटन या लाइसेंस रिन्यू होगा तो हम सेक्टर 48 शराब के ठेके का कोई आवंटन नहीं करेंगे और ना ही लाइसेंस रिन्यू करेंगे। सारी बात सुनने के बाद आबकारी आयुक्त ने कहा कि हम आबकारी नीति और जन भावनाओं को ध्यान में रखते हुए इसका सही समाधान निकालेंगे और इस ठेके को यहां पर आवंटित नहीं करेंगे।

अंत में उन्होंने इसे 31 मार्च 2019 तक की इसे यहां से हटाने की डेडलाइन भी दे दी थी। किंतु आश्वासन के अलावा अभी तक कुछ कार्य इसे हटाने को लेकर नहीं हुआ है। इसके तत्पश्चात जब महिला शक्ति ने इसका (पुनः) दोबारा फिर से विरोध आबकारी आयुक्त के कार्यालय पर किया तो प्रसाशन में हलचल शुरू हुई। अपने किये हुए वादे के अनुसार वहां सम्बंधित विभाग का एक उच्च अधिकारी मौका मुआयना के लिए भेजा गया, जिसमें कि सभी शिकायते वही पाई गईं जो वहां पर पहले से मौजूद थीं और फिर से सम्बंधित अधिकारी द्वारा 3 से 4 दिन का समय इसे हटाने को लेकर दिया गया ,और हमे फिर से आश्वासन पे आश्वासन दिया गया है।
लेकिन अब देखना ये होगा कि प्रसाशन या सम्बंधित विभाग इस पर कार्यवाही भी करेगा या किसी दबाव के चलते  सिर्फ आश्वासन तक ही सीमित रह जायेगा। वहीं दूसरी ओर विरोध कर रहीं महिलाओं में संस्कार फाउंडेशन की अध्यक्ष पारमिता चौधरी जी से बात करने पर उन्होंने कहा कि या तो प्रसाशन समय रहते सिर्फ जाग ही ना जाए, बल्कि एक्शन मोड में आ जाए अन्यथा महिलाओं को इसके लिए एक बड़े आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा। वहीं उन्होंने कहा कि हमें इस ठेके को उखाड़ फेंकने के लिए जो भी करना पड़े हम वो कर गुजरने में कतई भी नही हिचकेंगे। जिसके जिम्मेवार स्वयं सम्बंधित विभागीय प्रसाशन व आबकारी आयुक्त ही होंगे।
इस मौके पर परमिता चौधरी संयोजक संस्कार फाउंडेशन, रेनू चौधरी, रहमानी खान, प्रीति दुबे, राज शर्मा हिना माथुर, रितु अरोड़ा, पिंकी, दीपशिखा, सपना, मीरा, दिव्या डागर, शबनम,  पूजा, राजबाला, अनीता शर्मा, भगवती, पुष्पा सिंह, कोमल, जग विजय, निदा, मोनिका, रमाकांत, युक्ति, काजल, अल्का मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here