फिर से बदलेंगे बड़खल झील के पुराने दिन

0
126

न्यूज़ एनसीआर, 14 अप्रैल-फरीदाबाद | करीब डेढ़ दशक से सूखी बडख़ल झील को गुलजार करने के लिए नगर निगम इसके पास 20 मिलियन लीटर गंदा पानी शोधन करने की क्षमता वाला सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) लगाएगा। झील के इर्द-गिर्द बसी कॉलोनी, सेक्टर और गांवों का पानी एक नई सीवरेज लाइन के जरिए एसटीपी तक लाया जाएगा। यानी कि रोज 20 मिलियन लीटर पानी झील में छोड़ा जाएगा।

निगम अधिकारियों का दावा है कि इस तकनीक के जरिए निश्चित तौर पर झील फिर पानी से भर जाएगी। यहां फिर नौका विहार का आनंद लिया जा सकेगा। विधायक सीमा त्रिखा के इस ड्रीम प्रोजेक्ट को शुक्रवार दोपहर बाद सीएम मनोहरलाल खट्टर ने सिरे चढ़ाने की घोषणा भी की। झील को लेकर सीएम ने होटल राजहंस में टूरिज्म और जिला प्रशासनिक अधकिारियों की बैठक भी ली थी।

पौराणिक रूप में परशुराम जी से संबद्ध परसोन मंदिर अरावली की तलहटी में है। मंदिर से निकलने वाली जलधारा से ही बडख़ल पर्यटन स्थल की वर्षों पुरानी झील लबालब रहती थी। जब मंदिर की तरफ से पानी आना बंद हो गया, तब धीरे-धीरे झील का पानी भी सूखता चला गया। मंदिर प्रांगण में ही करीब तीन-चार ऐसी प्राकृतिक झीलें हैं, जिनमें हमेशा लोग जलक्रीड़ा करते थे। मंदिर का झरना इतना मनमोहक था कि श्रद्धालु यहां कई दिनों तक रुक जाया करते थे।

झील को भरने के लिए हुआ बड़ा सर्वे: केंद्रीय ग्राउंड वाटर बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वीके चड्ढा बडख़ल झील को भरने के लिए बड़ा सर्वे कर चुके हैं। विधायक सीमा त्रिखा के कहने पर ही चड्ढा इस कार्य के लिए राजी हुए थे। उन्होंने पहले झील के सूखने की वजह पता लगाई। तथ्य चौंकाने वाला था। अरावली में खनन के कारण झील के नीचे का भूजल स्तर पर खिसककर यहां-वहां चला गया। अब इसे पुनर्जीवित करने के लिए कई वर्षों तक झील में नियमित रूप से पानी भरा जाए तो शायद यह कभी लबालब भी हो जाए।

विधायक सीमा त्रिखा ने के अनुसार यह मेरा ड्रीम प्रोजेक्ट है। यह गुलजार हुई, तो हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा। फरीदाबाद का पर्यटन उद्योग बढ़ेगा। स्मार्ट सिटी में बडख़ल झील चार चांद लगाएगी। सीएम ने इसे भरने के लिए काम चालू करने के आदेश कर दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here