स्वच्छ जल आपूर्ति के लिए 15 गावों में बिछाई 48 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन

0
74

न्यूज़ एनसीआर, जींद। उचाना हलके के लगभग 15 गांवों में स्वच्छ जलापूर्ति सुनिश्चित करने के लिए जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा परियोजना पर काम शुरू किया जा चुका है। इन गांवों में नरवाना के पास से सिरसा ब्रांच नहर से पानी पहुचानें के लिए 48 किलोमीटर लम्बाई की पाईप लाईनें बिछाई जाएगीं। डीसी अमित खत्री नेे यह जानकारी देते हुए बताया कि जिला प्रशासन द्वारा जिला के प्रत्येक घर को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवानें के लिए कार्यवाही की जा रही हैं।

प्रथम चरण में उचाना हलके के लगभग 2 दर्जन गांवों में जलापूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए कार्यवाही शुरू की गई हैं। जिनमें से लगभग 12 गांव अलेवा खंड के तथा 14 गावं उचाना खंड के शामिल हैं। उन्होंने बताया कि लोगों को जलापूर्ति निर्बाध तरीके से हो सके इसके लिए लोहे की पाईपें बिछाई जा रही हैं। उचाना खंड के डूमरखाकलां, सफाखेड़ी, तारखा, पालवा, बड़ौदा, कहसून, कालता, भौंसला, धनखड़ी, घोघडियां, खटकड़, खरकबूरा, मोहनगढ़ तथा रोजखेड़ा गांव समेत 14 गांव के लिए बिछाई जाने वाली इस पाईप लाईन पर लगभग 21 करोड़ रूपए की राशि खर्च की जाएगी। उन्होंने बताया कि पाईप लाईन बिछानें का कार्य निर्धारित समय अवधि में पूरा करवा लिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि उचाना खंड के जिन गांवों में जलापूर्ति के लिए यह पाईपलाईन बिछाई जा रही हैं। उन गांवों में भूमिगत पानी पीने योग्य नहीं है। बरवाला ब्रांच नहर से गांवों तक बिछाई जाने वाली यह जलापूर्ति पाईप लाईन उक्त गांवों के जलघरों तक पहुंचेगीं। खासबात यह है कि इस पाईप लाईन को बिछानें में आधुनिक तकनीक का प्रयोग किया जा रहा हैं। जब जलघर पानी से भर जाएगें तब उस जलघर में पाईप लाईन ऑटोमैटिक बंद हो जाएगी। सभी जलघरों में एक ऐसा यंत्र पाईप लाईन पर लगाया जाएगा जो टैंक पूर्ण रूप से भर जानेे पर स्वयं बंद हो जाएगा। इस यंत्र को लगाने के पीछे जिला प्रशासन की मंशा जल संरक्षण को बढ़ावा देना भी है।

डीसी ने बताया कि पाईप लाईन बिछाने के दौरान एवं काम पूरा होने के बाद किसी प्रकार की कोई अड़चन न आए इसके लिए कई विभागों के अधिकारियों से पूर्व में ही विचार विमर्श किया जा चुका हैं। अक्सर यह देखनें में आया है कि पाईप लाईन बिछाने के बाद अन्य विभागों द्वारा अपनी सेवाओं का विस्तार करने के लिए पाईप लाईनों को तोड़ दिया जाता हैं। लेकिन ऐसी संभावनाओं को जड़ से समाप्त करने के लिए अन्य विभागों से भी विचार विमर्श किया जा चुका हैं। उन्होंने बताया कि विभाग का उदेश्य प्रत्येक घर को पर्याप्त स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाना है, इस उदेश्य की पूर्ति के लिए विभाग द्वारा नरवाना उपमंडल में लोगों को स्वच्छ पेयजल आपूर्ति के लिए अन्य कई परियोजनाओं को सिरे चढ़ाने के लिए भी कार्यवाही की जा रही हैं। उन्होंने यह भी बताया कि विभाग का प्रयास रहेगा कि अधिकाधिक लोगों को नहरी आधारित पानी उपलब्ध करवाया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here