एकादशी व्रत में इन चीजों के खाने से परहेज करें

0
191

नई दिल्ली। एकादशी का व्रत माह में दो दिन किया जाता है। शुक्ल पक्ष एकादशी और कृष्ण पक्ष एकादशी। इस दिन बेहद संयम और साधना के साथ भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। सनातन संस्कृति में व्रतों में सबसे उत्तम निर्जला एकादशी मानी जाती है। वर्ष में 24 एकादशी होती है और इस एक दिन के व्रत से सभी एकादशी का व्रत करने का पुण्य प्राप्त होता है।

जो लोग एकादशी व्रत नहीं रहते उन्हें इस दिन कुछ नियमों का पालन करने लिए कहा जाता है। जैसे इस दिन चावल या चावल से बनी चीजें खाना वर्जित होता है। यहां हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में बता रहे हैं जिनसे इस दिन दूरी बनाकर रखनी चाहिए।

चावल
जो लोग एकादशी का व्रत नहीं रहते उन्हें भी इस दिन चावल न खाने के लिए कहा जाता है। इस इस धारणा के पीछे एक कहानी प्रचलित है। कहा जाता है माता के क्रोध से बचने के लिए महर्षि मेधा ने अपनी देह त्याग दी थी। उनके शरीर का अंश भूमि में समा गया था। बाद में वही अंश चावल के रूप में भूमि से उत्पन्न हुआ। जिस दिन महर्षि की देह भूमि में समाई उस दिन एकादशी का दिन था। तभी से ही यह परंपरा शुरू हो गई कि एकादशी के दिन चावल और चावल से बने भोज्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन इन पदार्थाें का सेवन महर्षि की देह के सेवन के समान माना गया है।

वैज्ञानिक कारण समझे
इस दिन बेहद सात्विक तरह रहना चाहिए। चावल में जल तत्व की मात्रा अधिक होती है। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो जल तत्व की अधिकता मन को विचलित कर सकती हैं, क्योंकि जल और चंद्रमा में परस्पर आर्कषण होता है। यदि शरीर में जल तत्व की मात्रा बढेगी तो मन अशांत महसूस करेगा।
इन चीजों से भी बचें
कहा जाता है कि जो लोग व्रत नहीं रख सकते हैं वह इस दिन सात्विक जीवन जीएं तो उन्हें भी भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है। एकादशी के दिन लहसुन, प्याज, मांस, मछली, अंडा, सिगरेट, शराब आदि खाने से परहेज करें। किसी से झगड़ा या घर में क्लेश न करें। झूठ न बोलें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here