छात्र विरोधी फैसले लेने में केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार अव्वल : कृष्ण अत्री

0
14
16 जुलाई-फरीदाबाद | एनएसयूआई फरीदाबाद के कार्यकर्ताओं ने बीके चौक पर एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल, यूजीसी विभाग और हरियाणा की खट्टर सरकार की सद्बुद्धि के लिए हवन किया। हवन के माध्यम से फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं रद्द कराने के लिए एवं सभी स्कूल-कॉलेजों की फीस माफी के लिए मांग की गई। इस सद्बुद्धि हवन का आयोजन एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने किया।
एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने बताया कि छात्र एनएसयूआई के बैनर तले पिछले कई दिनों से 2 मांगो को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं जिसमें फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं रद्द कराने को लेकर एवं सभी स्कूल-कॉलेजों की 6 माह फीस माफी की मुख्यतः मांग की जा रही हैं। यूजीसी ने फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं कराने को लेकर 6 जुलाई को गाइडलाइन जारी की हैं जिसमें फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं करवाना जरूरी है। जिस दिन से ये छात्र विरोधी फैसला आया है उसी दिन से एनएसयूआई के बैनर तले छात्र इसका डटकर विरोध कर रहें हैं। यूजीसी के इस फैसले के विरोध में 7 जुलाई को बीके चौक पर प्रदर्शन करके केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल का पुतला फूंका, 9 जुलाई को वाईएमसीए यूनिवर्सिटी के बाहर प्रदर्शन किया, 10 जुलाई को #SpeakUpForStudents ऑनलाइन मुहिम के माध्यम छात्रों ने इस फैसले का विरोध किया तथा 13 जुलाई को जिला उपायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन करके महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम ज्ञापन सौंपा। इन सभी प्रदर्शनों के बाद जब यूजीसी ने अपना फैसला नही बदला हैं तो छात्रों ने एनएसयूआई के साथ मिलकर मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और यूजीसी विभाग के अधिकारियों की सद्बुद्धि के लिए हवन किया हैं।
कृष्ण अत्री ने केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार हमला बोलते हुए कहा कि छात्रों के विरूद्ध फैसले लेने में ये सरकार अव्वल हैं। आज जहाँ कोरोना महामारी के डर से लोकसभा सत्र और विधानसभा सत्र नही लग रहे हैं, ऐसे समय में फाइनल ईयर के छात्रों की परीक्षाएं करवाना छात्रों के साथ नाइंसाफी हैं जबकि नॉन फाइनल ईयर के छात्रों को बिना परीक्षा के पास कर दिया गया हैं। ऐसे में एनएसयूआई संगठन मांग करता है की फाइनल ईयर के छात्रों की तुरंत परीक्षाएं रद्द कर दी जाए तथा सभी स्कूल-कॉलेजों की 6 माह की फीस माफ कर दी जाए। साथ ही कृष्ण अत्री ने चेतावनी दी हैं कि अगर मांग जल्द से जल्द नही मानी गई तो एनएसयूआई बीजेपी के चुने हुए नुमाइंदों के घरों का घेराव करने से भी पीछे नही हटेंगी।
इस मौके पर धर्मेंद्र शर्मा, अमित बघेल, निशांत चंदीला, लक्ष्मण चौधरी, सचिन तंवर, निखिल कुमार, शैफाली चिब, प्रियंका सूर्यवंशी, पिया मिश्रा, देवा, नितिन यादव, विपिन यादव, धीरज रावत, अंकुश अग्रवाल, सोनू, संजीव चौहान आदि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here