सीबीआई ने एसआरएस ग्रुप के विभिन्न स्थानों पर मारा छापा : सतीश मित्तल

0
44

16 जुलाई-फरीदाबाद | प्राप्त जानकारी के अनुसार केन्द्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) के द्वारा आज SRS Group द्वारा विभिन्न बैंकों व वित्तीय संस्थानों के साथ किये गए हजारों करोड़ रूपए की हेराफेरी, जालसाजी और घोटालों के मामलों में इस ग्रुप से जुड़े विभिन्न स्थानों तथा निदेशकों (Directors) के फरीदाबाद व बैंगलोर स्थित निम्न 9 स्थानों पर तलाशी ली गयी और पूछताछ की गई :

  • SRS टावर, सेक्टर 30, मथुरा रोड, फरीदाबाद
  • SRS मॉल, सेक्टर 12, फरीदाबाद
  • फ्लैट न. 701, ओंकारेश्वर सोसायटी, सेक्टर – 65, फरीदाबाद ( बिशन बंसल का निवास स्थान )
  • मकान न. E-1/111, सेक्टर – 11, फरीदाबाद ( नानक चन्द तायल का निवास स्थान )
  • मकान न. 413, सेक्टर – 9, फरीदाबाद ( राजेश सिंगला का निवास स्थान )
  • मकान न. 117, सेक्टर – 9, फरीदाबाद ( जे के गर्ग के भाई रविन्द्र गर्ग का निवास स्थान )
  • मकान न. 529, सेक्टर – 14, फरीदाबाद ( जे के गर्ग के भाई शैलेन्द्र गर्ग का निवास स्थान )
  • मकान न. 888, सेक्टर – 15, फरीदाबाद ( अनिल जिन्दल के समधी गोपाल गर्ग का निवास स्थान )
  • फ्लैट न. 2071, टावर – 2, प्रेस्टीज व्हाइट मीडोज, नजदीक व्हाइट फील्ड पुलिस स्टेशन, व्हाइट फील्ड, बैंगलोर ( अनिल जिन्दल और उसके भाई विनोद जिन्दल का निवास स्थान )।

जानकारी मिली है CBI की प्रत्येक जाँच टीम में 5 सदस्य थे जिनमें से 3 सी.बी.आई. अधिकारी और 2 बैंक अधिकारी सम्मिलित थे। पता चला है कि गत कई वर्षों से घोटाले की जाँच के चलते किसी के यहाँ से कोई बहुत ज्यादा आपत्तिजनक कागजात तो टीमों के हाथ नही लगे। किन्तु फिर भी यह टीमें अपने साथ कुछ दस्तावेज ले गयी है। साथ ही उक्त टीमों के द्वारा प्रत्येक स्थान पर उपस्थित किसी एक प्रमुख व्यक्ति के बयान भी कलमबद्ध किये गए।

SRS पीड़ित संघ के संयोजक CA सतीश मित्तल ने बताया कि कुछ whistle blowers और विभिन्न बैंकों की शिकायतों पर लगभग 1 वर्ष पूर्व CBI ने अपने यहाँ प्राथमिक जाँच हेतु शिकायतें दर्ज कर उनकी जाँच की कार्यवाही प्रारम्भ कर दी थी। इस दौरान उन्होंने विभिन्न बैंकों से घोटालों से सम्बंधित अनेकों दस्तावेज बैंकों से व अन्य स्रोतों से एकत्र कर लिए थे। उक्त जांच की कार्यवाही CBI के स्तर पर लगातार जारी थी। आज की कार्यवाही उसी जाँच की दिशा में एक और कदम है।

CA सतीश मित्तल ने यह भी बताया कि CBI द्वारा की गई आज की कार्यवाही का सम्बन्ध Canara Bank द्वारा SRS ग्रुप की एक कम्पनी SRS Real Estate Limited को प्रदान किये गए 110 करोड़ रुपये के ऋण से था, जो अब पूर्णतया NPA हो चुका है तथा इस सम्बन्ध में कैनरा बैंक द्वारा काफी समय पूर्व CBI के पास शिकायत दर्ज की जा चुकी है।

CA सतीश मित्तल ने आगे बताया कि उक्त ऋण कैनरा बैंक द्वारा ग्रुप के एक प्रोजेक्ट SRS Royal Hills को पूरा करने के लिए प्रदान किया गया था। कैनरा बैंक को धोखे में रख कर इसी प्रोजेक्ट पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से भी ऋण प्राप्त किया गया। इस सम्बन्ध में भारतीय स्टेट बैंक की शिकायत पर एक मुकदमा फरीदाबाद की अदालत में भी विचाराधीन है। सतीश मित्तल के अनुसार SRS ग्रुप की अनेकों कम्पनियों पर इस समय विभिन्न बैंकों तथा वित्तीय संस्थानों का लगभग 2,163.50 करोड़ का ऋण बकाया है जो पूरी तरह से NPA हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here