माल्यार्थ फाउंडेशन द्वारा योग दिवस के उपलक्ष्य में अंतरराष्ट्रीय वेबिनार आयोजित किया

0
15

22 जून-फरीदाबाद | साहित्य, शिक्षा, ललित कलाओं, कौशल विकास, स्वास्थ्य, पर्यावरण एवं महिला सशक्तिकरण के लिए समर्पित अखिल भारतीय संस्था माल्यार्थ फाउंडेशन यूँ तो अपने कार्यक्षेत्रों के अनुसार देश के लगभग सात प्रान्तों में अपनी गतिविधियाँ प्रारंभ कर चुकी है इसी श्रंखला में वर्तमान परिस्थितियों में कोरोना के चलते  आगामी स्वास्थ्य से सम्बंधित एक परिचर्चा के आयोजन हेतु तीन सत्रों में अंतरराष्ट्रीय वेबिनार ‘  स्वास्थ्य एवं योग’ विषय पर  आयोजन किया गया | “माल्यार्थ फाउंडेशन के संस्थापक अध्यक्ष उदितेन्दु वर्मा ‘निश्चल’ ने बताया की संस्था  अपने सभी परिकल्पनाओं में दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानववाद और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के सपनो के रंग घोलकर नवयुवक के जागरण , नए समाज के अभ्युदय और नए भारत के निर्माण का संकल्प साधकर चलने वाली सामाजिक संस्था है  और अपने लक्ष्य की पूर्ती हेतु भावकों की मानसिकता सरस बांये रखकर उसके ओजस और वर्चस  के सर्वांगीण विकास हेतु प्रयासरत है |  नए परिदृश्य में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए जो माहौल उभर कर सामने आया है, उसके मद्देनजर योग दिवस को घर से ही योगाभ्यास करने का प्रयास करवाकर माल्यार्थ फाउंडेशन के सौजन्य से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जुड़े लोगो द्वारा अपने कार्यकलापों में ‘घर पर योग, परिवार के साथ योग’ थीम को बढ़ावा देकर इस  दृष्टिकोण का समर्थन किया गया |  हर साल 21 जून को विश्‍व भर में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है। जनता ने विगत वर्षों के दौरान इस आयोजन को भारत की संस्कृति और परंपरा के एक उत्सव के रूप में अपनाया। इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस स्वास्थ्य से जुड़ी आपात स्थिति में मनाना पड़ रहा है। यही कारण है कि इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाया जाना दरअसल अच्छे स्वास्थ्य और मन की शांति के लिए एक खोज बन गया है।

40 मिनट का सामान्‍य योग अभ्यासक्रम विश्‍व भर में सबसे लोकप्रिय योग कार्यक्रमों में से रहा | अग्रणी योग गुरुओं और विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा इसे सफल बनाया गया और इसमें लोगों के शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक एवं आध्यात्मिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए ऐसे सुरक्षित अभ्यास या आसन शामिल थे |

माल्यार्थ फाउंडेशन के संस्थापक निदेशक अंकित कुमार श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए बताया की स्वास्थ्य एवं योग सम्बन्धि विषयों पर परिचर्चा हेतु  मुख्य वक्ता के रूप में बरेली से आयुष मेडिकल ऑफिसर एवं माल्यार्थ फाउंडेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रंजन विशद जी उपस्थित रहे जिन्होंने अपने वक्तव्य के माध्यम से लोगो को योग से जुड़ाव और प्रभाव के विषय पर जानकारी दी  | दूसरे सत्र में  योग शिक्षक के रूप में बिहार से संगीता कुमारी जी उपस्थित रही जिन्होंने अपने अनुभव कार्यशाला के रूप में सभी से साझा किये | सत्रों का संयोजन क्रमशः हरिद्वार से प्रियंका सिंह , फरीदाबाद से प्रियंका सोनी , दिल्ली से अमिता श्रीवास्तव तथा गोवाहाटी से सुदिप्तो अधिकारी ने किया |

तीनों सत्रों में संस्था के विभिन्न कार्यक्षेत्रों के संयोजक सुदीप जायसवाल, अनिल कुमार वर्मा, शेखर सिंह, प्रियंका सोनी, सुमित स्वर्णकार, हरीश वशिष्ठ, पंकज गुप्ता सहित भारत के 14 प्रान्तों एवम दुबई, यु के और जर्मनी से प्रतिनिधियों ने भाग लिया। वन्देमातरम के उपरांत सत्रों का समापन हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here