बिहार के 12 प्रवासी मजदूर लॉकडाउन में फंसे, सरकार से घर वापस भेजने की कर रहे हैं अपील

0
1
13 मई- हथीन/माथुर। एक ओर जहां जिला प्रशासन ने जमातियों की सुरक्षित घर वापिसी का अभियान चलाया हुआ है वहीं लॉक डाउन में फंसे प्रवासी मजदूर वापिसी के लिए दर दर भटक रहे हैं। प्रशासन उनकी सुनने को तैयार ही नही है। ऐसे ही 12 बिहारी मजदूरों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल एवम बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से घर वापिसी कराने की गुहार लगाई है। मधेपुरा जिले के ग्राम  खापुर प्रखंड आलमनगर निवासी उक्त 12 मजदूर हुडिथल ग्राम में हैं।
मजदूर अरुण सिंह ने बताया कि वे विभिन्न स्थानों पर रहकर मेहनत मजदूरी कर रहे थे, अचानक लॉक डाउन होने से न तो मजदूरी मिल रही है और न ही घर वापिसी हो पा रही  है। उसके साथी अशोक ने बताया कि प्रवासी  मजदूर पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन भी कराया, मेडिकल अफसर से अपना स्वास्थ्य चेक अप भी करा दिया है।इसके बावजूद प्रशासन ने उनकी घर वापिसी का कोई प्रबंध नही किया है। उनके साथ रह रहे मनोज कुमार, हरिलाल, मिथुन कुमार, शम्भू, धर्मेंद्र संजयराय, कृष्ण कुमार आदि ने बताया कि उनके बिहार स्थित परिवार जन भी चिंतित हैं।
उनके पास कमाया हुआ कोई पैसा भी नहीं है। प्रशासन ने अभी तक उनकी कोई मदद नही की है। हुडिथल ग्राम के लोग अपने स्तर पर मदद कर रहे हैं। मजदूरों ने बताया कि वे दो बार हथीन एसडीएम से मिलने उनके ऑफिस में भी जा चुके हैं। उन्हें एसडीएम नही मिले हैं। इस बारे में एसडीएम वकील अहमद ने बताया कि ऐसे मजदूरों की घर वापिसी के कोई निर्देश सरकार से प्राप्त नही हुए हैं। हुडिथल में फंसे मजदूरों के बारे में उन्हें कोई जानकारी नही है।
वे पता कराएंगे जो भी मदद सम्भव होगी वे मदद करेंगे। प्रवासी मजदूरों की वापिसी कराने के लिए जिला प्रमुख बनाए गए सूरज पांडे का कहना है कि ऐसे मजदूरों की मदद की जायेंगीं। उनकी वापिस घर पहुंचाने  की व्यवस्था अवश्य कराई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here