फरीदाबाद में साध्वी कुंदन रेखा के सान्निध्य में मर्यादा महोत्सव का हुआ आयोजन

0
14
23 फरवरी- फरीदाबाद। साध्वी डॉ कुंदनरेखा ने बताया कि मर्यादा महोत्सव सेवा, श्रद्धा व समर्पण का त्रिवेणी महोत्सव है। मर्यादा व्यक्ति को केवल बाहर से ही नही भीतर से भी उज्ज्वल करती है। वह भीतर के अज्ञान को समाप्त करती है। आचार्य भिक्षु ने तार्किक, वैज्ञानिक और व्यवहारिक रूप से मर्यादा का प्रतिपादन किया। मर्यादा पत्र एक गुरु, एक आचार और एक विचार से संयुत है। संघ की व्यवस्था अत्यंत सुंदर है, सारणा और वारणा इसके प्राण है, बड़े-छोटे, नए-पुराने का कोई भेद नही, संविभाग की सुंदर व्यवस्था है। तेरापंथ धर्म संघ अपने आप मे अनूठा है, यहां चाहे मंदिर में ना जाये, पर मन को मंदिर बनाने का प्रयास प्रतिदिन चलता है, यहां चाहे दीपावली में दिए ना जलाए पर प्रतिदिन ज्ञान, दर्शन, चारित्र, तप और वीर्य रूपी पंचाचार के दीये जलाए जाते है। इस मर्यादा महोत्सव पर उन्होंने सभी के प्रति मर्यादित और अनुशासित होकर संघ सेवा में तत्पर रहने की मंगलकामना की।
> साध्वी कर्तव्य यशा ने “हर करम अपना करेंगे, हम सदा गण के लिए” का सुमधुर संगान किया। साध्वी सौभाग्ययशा ने इस अवसर पर कहा आज का दिन न तो निर्माण का दिन है, ना निर्वाण का दिन है, आज का दिन तो विधान का दिन है। उन्होंने कहा एक शब्द में कहे तो मर्यादा समस्त समस्याओं का समाधान है। उन्होंने ऊंट के कथानक के माध्यम से सभी को सन्देश दिया कि यदि मर्यादा का एक ऊंट किसी समस्या के साथ जोड़ दे तो कोई भी समस्या हल हो सकती है। साथ ही उन्होंने “तेरापंथ शासन जग में निरालो रे” का सुमधुर संगान किया। कार्यक्रम का अनुशासित संचालन साध्वी कल्याणयशा ने किया। तत्पश्चात साध्वी वृन्द ने “मर्यादा का महोत्सव आया है” सामूहिक गीतिका का संगान किया।
> मर्यादा महोत्सव के इस अवसर पर फरीदाबाद श्रावक समाज के 50 जोड़ों ने सामूहिक रूप से “तेरापंथ निराला, ऐसा संघ हमारा” गीत का सुमधुर संगान किया। कार्यक्रम की शुरुआत नमस्कार महामंत्र के साथ और मंगलाचरण महिला मंडल द्वारा भिक्षु अष्टकम से किया गया। जगत बेगवॉनी ने मर्यादा की महत्ता और फरीदाबाद में मर्यादा महोत्सव के संक्षिप्त इतिहास के बारे में बताया। सभा अध्यक्ष विजय नाहटा ने कहा कि जिस मर्यादा और अनुशासन की मूल भावना के साथ यह धर्म संघ गतिमान है वहां बिखराव और टकराव का तो स्थान ही नही। कार्यक्रम के लाइव प्रसारण का कार्य पीयूष बेगवॉनी ने सम्पादित किया। संघ गान के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।
> इस कार्यक्रम में सभा मंत्री संजय दुगड़, चैनरूप तातेड़, तेयुप अध्यक्ष संकेत लूणिया, महिला मंडल अध्यक्षा सुनीता नाहटा, मंत्री गरिमा भूतोड़िया, टीपीएफ मंत्री भरत बेगवॉनी, अणुव्रत समिति मंत्री राजेश जैन, ज्ञानशाला संयोजिका मंजू लूणिया सहित समाज के लगभग 150 गणमान्य लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here