भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ. ऋषिपाल अम्बावता ने केन्द्र सरकार पर बोला हमला

0
7

05 फरवरी- फरीदाबाद। भारतीय किसान यूनियन (अ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ. ऋषिपाल अम्बावता ने प्रैस को जारी एक विज्ञप्ति के माध्यम से केन्द्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा भाजपा की केन्द्र में दूसरी पारी की सरकार का पहला बजट न केवल किसान के लिए बल्कि पूरे देश के गरीब, बेरोजगार और मजदूरों के लिए जुमला साबित हुआ है। उन्होने कहा भाजपा की सरकार देश की सत्ता संभाल नहीं पा रही। भाजपा की गलत नीतियों ने देश को 30 साल पीछे धकेल दिया है। काम धंधे चौपट हैं। मंहगाई बेतहाशा बढी है। इसलिए झारखंड की तरह दिल्ली में भाजपा की करारी हार होगी। यह देश सबका है, यहां सालों से हिन्दू-मुसलमान भाईयों की तरह रहते आ रहे हैं।

> दिल्ली की जनता को आरएसएस का अराजकता वाला भारत नहीं चाहिए। बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का अखण्ड भारत चाहिए। अम्बावता ने कहा भाजपा हिन्दुओं को मुस्लिमों के खिलाफ भडका कर देश में आग लगवाने का काम कर रही है। इनको देश के किसान, गरीब, मजदूर और युवाओं की बदहाली से कोई सरोकार नहीं, और न ही इनको देश की गिरती जीडीपी, बढती मंहगाई, बेरोजगारी और जलते देश की चिन्ता है। इन्हेें केवल देश पर सत्ता हांसिल करने की चिंता है। मोदी-शाह को वोट की राजनीति और सत्ता का दुरूपयोग करना बखूबी आता है। इससे पहले कि देश का भाईचारा पूरी तरह बिगड जाए, और हिन्दू-मुसलमान एक दूसरे के खून के प्यासे हो जाएं। उन्होने कहा देश का ग्रहमंत्री और प्रधानमंत्री देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। अमित शाह कहते हैं सरकार कहती है एनआरसी और सीएए लागू करके रहेंगे। जबकि प्रधानमंत्री कहते हैं कि किसी बिल को लागू नहीं कर रहे।

> उन्होने भाजपा के नेताओं को शाहीनबाग में जाकर प्रदर्शन कारियों से मिलना चाहिए, और अनुराग ठाकुर तथा प्रवेश वर्मा जैसे ओच्छी सोच रखने वाले लोगों को जेल भेजना चाहिए। अम्बावता ने कहा भारतरत्न बाबा साहेब डॉ. बी. आर. अम्बेडकर ने जो संविधान बनाया, वह अपने आप में दुनियां का बेहतरीन संविधान है। देश की जनता को समझना होगा कि केन्द्र पर गलत लोगों का कब्जा हो गया है, जो इंसानियत के दुश्मन हैं। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी देश हित में काम करते थे, मगर मोदी और शाह की जोडी ने अपनी पार्टी के देश भक्त नेताओं को एकांत में धकेल दिया है। देश की जनता मोदी-शाह की अमानवीय मंशा को अब समझने लगी है। इसलिए दिल्ली विधानसभा चुनाव में यदि ईवीएम की गडबड नहीं हुई तो, भाजपा को एक सीट भी नहीं मिलेगी।

> अम्बावता ने कहा भाजपा किसान विरोधी सरकार है। भाकियू ने अनेक बार पत्र के माध्यम से किसानों की मांगे भेजी, मगर सरकार का कोई जवाब नहीं आया। किसानों की मांगों के विषय में बताते हुए उन्होने कहा पूरे देश का किसान कर्र्ज मुक्त हो। जिस प्रकार सरकार चुपचाप उद्योगपतियों का अरबो का कर्जा माफ कर देती है, उसी प्रकार किसान का भी कर्ज माफ हो, 2. स्वामी नाथन रिर्पाेट सीटू के आधार पर लागू हो 3. किसान आयोग का गठन हो 4. किसान को बिजली कनेक्शन मुफ्त मिले और ऋृण पर सब्सीडी मिले 5. पूरे देश के किसान को बुढापा पेंशन 5 हजार रूपये मिले।

> भाकियू अध्यक्ष ने कहा देश को मोदी-शाह और दिल्ली को केजरीवाल सरकार ने बर्वादी की ओर धकेल दिया है। केन्द्र सरकार जनता को धर्म के नाम पर बांटकर राज कर रही है, तो केजरीवाल सरकार दिल्ली की जनता को कामचोर और आलसी बना रही है। स्वास्थ्य सेवाएं और शिक्षा निशुल्क होनी चाहिए, मगर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल जनता को रोजगार दें। ताकि लोगों की आय बढे, और जनता के टैक्स का पैसा विकास में खर्च हो। उन्होने कहा भाकियू ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में अभियान चला रखा है कि कोई किसान-मजदूर भाजपा और आप को वोट न दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here