अवैध कॉलोनी में तोडफ़ोड़ करने गए ड्यूटी मजिस्ट्रेट व कर्मचारियों के साथ लोगों ने की हाथापाई

0
49

06 फरवरी- हथीन (माथुर)। लघु सचिवालय के सामने
अवैध रूप से काटी गई कालोनी में किए जा रहे
निर्माण कार्यों को ध्वस्त करने के लिए बुधवार
को डीटीपी विभाग की टीम मय पुलिस बल के
जेसीबी मशीन को लेकर पहुंच गई। जेसीबी का
पीला पंजा अभी कुछ अवैध निर्माणों पर चला ही
था कि इसी बीच लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई और
तोडफ़ोड़ का विरोध करना शुरू कर दिया।
लेकिन भारी पुलिस बल के चलते लोगों का विरोध
कोई काम नहीं आया और जेसीबी का पीला पंजा
अवैध निर्माणों को ढहाता रहा। इसी बीच हथीन
नगरपालिका के चेयरमैन जो कि वार्ड नंबर 11
में हो रहे विकास कार्यो की देखरेख करने व जन
समस्याओं को जानने के लिए गए थे तो लोगों ने उन्हें
इस तोडफ़ोड़ के बारे में अवगत कराया।

> नगर पालिका के चेयरमैन जब वहां पर पहुंचे तो उन्होंने तोडफ़ोड़ कर रही टीम से तोडफ़ोड़ करने का कारण पूछा तो उन्हें बताया कि यह अवैध रूप से काटी गई कालोनी है। कालोनी में किए गए निर्माण धारकों को पहले ही नोटिस जारी कर दिए थे। जबकि लोगों का कहना था कि उन्हें आज तक कोई नोटिस नहीं मिला। इसी बात को लेकर तू-तू मैं-मैं से बात आगे बढ़ गई और
हाथापाई तक की नौबत आ गई। पुलिस ने बीच-बचाव
कराया और तोडफ़ोड़ की कार्र्यवाई को बीच में ही रोक दिया गया। इस संदर्भ में तोडफ़ोड़ की कार्रवाई का नेतृत्व कर रहे ड्यूटी मजिस्ट्रेट नगर योजनाकार विभाग के
राजेंद्र शर्मा ने हथीन थाना में नगर पालिका चेयरमैन सुमित, नवनीत राघव, सिराज, जल्लू, तालीम व उमरदीन कुरेशी तथा 30 अन्य के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने व सरकारी कर्मचारियों से हाथापाई एवं मारपीट करने की लिखित रूप में शिकायत की है। ड्यूटी  मजिस्ट्रेट राजेंद्र शर्मा ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में कहा है कि उसके साथ डीटीपी पलवल कार्यालय के ओमप्रकाश जेई, नसीम अहमद जेई, कृष्ण कुमार लिपिक और पुष्पेंद्र, महेंद्र खलासी आदि कर्मचारी जब पुलिस बल की मौजूदगी में अवैध कॉलोनी में तोडफ़ोड़ करने गए तो उनके साथ आरोपियों ने बहसबाजी कर काम रुकवाने की कोशिश की और तोडफ़ोड़ के ऑर्डर की कॉपी मांगी तथा वहां पहले से ही मौजूद लोगों ने
मिलकर झगड़ा करना शुरू कर दिया।

> सरकारी काम में बाधा डालने के साथ-साथ सरकारी कर्मचारियों से बदसलूकी, हाथापाई तथा मारपीट की गई। जबकि वहीं दूसरी तरफ हथीन नगरपालिका के चेयरमैन सुमित ने भी डीटीपी विभाग के नसीम और औमप्रकाश के खिलाफ लिखित रूप में शिकायत कर कानूनी कार्र्यवाई की मांग की है। पुलिस को दी अपनी शिकायत में सुमित ने कहा है कि वह वार्ड नंबर 11 में जन समस्याओं को जानने तथा विकास कार्यो की देखरेख के लिए गए थे तो उस समय डीटीपी की टीम वहां कार्र्यवाई कर रही थी। जो कि बगैर नगरपालिका के जानकारी के थी। इसी समय वहां के स्थानीय लोग मेरे पास अपनी शिकायत लेकर आए जिस पर मैं वहां मौके पर पहुंचा तो डीटीपी टीम के कुछ लोग मौजूद थे। जिसमें नसीम और ओमप्रकाश ने मेरी गिरेबान पर हाथ डालकर सार्वजनिक तौर पर बेज्जती कर मेरे साथ मारपीट करने की कोशिश की तथा मौके पर मौजूद जेसीबी ऑपरेटर को चिल्लाकर मेरे ऊपर जेसीबी चढ़ाकर मारने की आदेश देते हुए बार-बार मारने की कोशिश की। वहां पर मौजूद कुछ समर्थकों ने बड़ी
मुश्किल से मुझे बचा कर निकाला। पुलिस ने दोनों शिकायतों को लेकर मुकदमे दर्ज करने की कार्र्यवाई शुरू कर दी है। समाचार भेजे जाने तक मुकदमे दर्ज करने की प्रक्रिया चल रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here