मनस्कृति स्कूल में हुआ लिटिल इंडिया मेले का आयोजन

0
19
न्यूज़ एनसीआर, 09 सितंबर-फरीदाबाद | फरीदाबाद के सेक्टर 82 स्थित मनस्कृति स्कूल में लिटिल इंडिया मेले का आयोजन किया गया| इस मेले को आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य ये था कि, समस्त फरीदाबाद वासियों सहित हमारे विद्यार्थियों तथा उनके पैरेंट्स के साथ-साथ सम्पूर्ण समाज को हमारी संस्कृति व् परम्परागत रहन – सहन, खान – पान और वेश – भूषा आदि से अवगत कराना था।

लिटिल इंडिया मेले का शुभारम्भ स्कूल की ट्रस्टी इंदिरा लोहिया, मनीषा गुप्ता, हर्ष गुप्ता (निदेशक, प्रधानाध्यापक विद्या मंदिर पब्लिक स्कूल), आनंद गुप्ता, प्रधानाचार्या ज्योति भल्ला , प्राचार्या महोदया विजया सेठी तथा अन्य माननीय अतिथिगणों द्वारा किया गया। लिटिल इण्डिया मेले में विभिन्न स्टॉल्स भी लगाए गए जिसके माध्यम से ये दर्शाया गया कि किस तरह पुरानी और बेकार वस्तुओं को शिल्प कला द्वारा नया व सुन्दर आकार प्रदान किया जा सकता है।

ईस मेले का उद्देश्य भारतीय संस्कृति को जीवंत करना और लोगों को भारतीय मूल्यों और परम्परा द्वारा पारिवारिक संबंधों पर विश्वास करना सिखाना था। इस मेले में लुप्त हो रही हमारी भारतीय संस्कृति को संजोते हुए मनस्कृति विद्यालय, ग्रेटर फरीदाबाद में आर्ट एंड क्राफ्ट, कठपुतली का नाच, बायोस्कोप, ब्लॉक प्रिंटिंग, टाई एंड डाई, रंगोली, मेहंदी, चूड़ियां एवं खटिया बुनाई आदि स्टॉल्स के द्वारा संस्कृति व हस्त कला का प्रदर्शन किया गया।

इस भारतीय सांस्कृतिक विशाल मेले की मुख्य केंद्र माँ और बच्चों की रैंप वॉक रही, जिसमें लोगों ने भारतीय परिधान पहनकर स्वदेशी बनाने का सन्देश दिया। नेमचंद द्वारा पॉटरी ज़ोन स्टॉल लगाया जिसमें उन्होंने मिट्टी से सम्बंधित कला के बारे में बताया। वहीं निधि सहगल द्वारा भारतीय सांस्कृतिक कहानियों के माध्यम से हमारे संस्कारों में रूचि उत्पन्न करना था। कठपुतली के नाच द्वारा हमारी भारतीय कला तथा मधुबनी पेंटिंग्स द्वारा बिहार की कला का प्रदर्शन किया गया। इन सभी के माध्यम से विद्यार्थियों में सांस्कृतिक कौशल विकास जागरूक करने का प्रयास किया गया। फ़रीदाबाद वासियों, छात्रों तथा अभिभावकों ने इस सांस्कृतिक मेले का भरपूर आनंद उठाया। मनस्कृति स्कूल ग्रेटर फरीदाबाद का भारतीय संस्कृति को जीवंत करने का उद्देश्य सार्थक व सम्पूर्ण रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here