विश्व संगीत दिवस पर स्वरों का संगम

0
83

न्यूज़ एनसीआर, (शारा गार्ग) 24 जून – फरीदाबाद | जहाँ पूरे फरीदाबाद में जगह जगह पर विश्व योग दिवस मनाया जा रहा था, वही एक और एक सामाजिक संस्था, एक कोशिश ने विश्व गीत दिवस के सुअवसर पर एक सरुमई संगीत गोष्ठी का आयोजन पी.बी. जैन अधिवक्ता के सेक्टर 11 स्थित आवास पर किया गया।

इस संगीत गोष्ठी में फरीदाबाद के अनेक प्रसिद्ध कलाकारों ने सम्मलित हो कर स्वरों की वर्षा कर दी। कार्यक्रम का प्रारंभ एक कोशिश संस्था के बच्चों द्वारा किया गया जहाँ कुमारी सिम्पी ने विश्व संगीत दिवस के बारे में श्रोताओं को से जानकारी दी साथ ही अनेक कलाकारों ने अपनी सरुमई रचनाओं द्वारा श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया। भूपेंद्र मल्होत्रा एवं नकुल मल्होत्रा जी ने बहुत ही प्रभावशाली तरीके से राग मालकोष एवं यमन द्वारा शास्त्रीय संगीत को बहुत ही रोचक तरीके से प्रस्तुत किया और मंत्र मुग्ध कर दिया, इसके इलावा जहा सुप्रसिद गजल गायक रमेश शर्मा ने गुलाम अली साहेब की गजलें और सुरेंदर सिंह कीर्ति जी ने पुराणी फिल्मों के गीतों को गा कर वातावरण को स्वरों से सराबोर कर दिया, वहीं सपना सूरी ने पंजाबी ग़ज़ल और गीत, प्रीतम सिंह जी ने रफ़ी साहेब के गीत एवं पी. बी. जैन ने शब्द एवं भजन द्वारा अपनी संगीतमय रचनाएँ प्रभावशाली तरीके से प्रस्तुत की और तबले पर राजेंद्र कुमार ने अपने मधुर तबला वादन से वातावरण में सुर और ताल में मधुर सामंजस्य पैदा कर दिया।

इस प्रकार विश्व संगीत दिवस के अवसर पर इन कलाकारों ने भारतीय संगीत के विभिन्न स्वरूपों को एक इस कार्यक्रम में प्रस्तुत करके सच्चे स्वरुप में इस दिवस को मनाया और उसी दौरान सपना सूरी ने बहुत ही प्रभावशाली तरीके से मंच का संचालन कर श्रोताओं का दिल जीत लिया। कार्यक्रम का समापन बहुत ही रोचक अंदाज में सभी कलाकारों एवं श्रोताओं ने स्वर्गीय जगजीत सिंह का विश्व प्रसिद्ध रचना ‘हे राम हे राम’ एक साथ गा कर किया। .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here