लीज़ा हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल ज़िन्दा हैं : पराग शर्मा

0
52

न्यूज़ एनसीआर, 03 जून-फरीदाबाद | बल्लभगढ़ की रहने वाली लीज़ा की निर्मम तरीके से की गई हत्या ने बल्लभगढ़ की आवाम को झकझोर कर रख दिया है। निर्भया पार्ट 2 के नाम से चर्चित इस हत्याकांड के दोषी को फाँसी की सजा की मांग को लेजर जगह-जगह लोगों में रोष देखने को मिल रहा रहा है। इसी क्रम में कल विभिन्न समाजसेवियों, युवा-युवतियों, टैगोर पब्लिक स्कूल के बच्चों द्धारा योग वाटिका, सेक्टर 3 से लीज़ा को न्याय दिलाने हेतु हत्यारे को फाँसी की सजा की मांग को लेकर एक कैंडल मार्च निकाला गया। जो कि बल्लभगढ़ में विभिन्न गलियों, बाजारों से होते हुए 5 किलोमीटर की दूरी तय कर लीज़ा के घर के बाहर समाप्त हुआ। इस कैंडल मार्च में शामिल समाजसेवियों ने लीज़ा के माता-पिता से मिलकर इस निर्मम हत्याकांड पर अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की तथा उन्हें हर संभव मदद देने की भी बात कही, इस कैंडल मार्च में शामिल अधिवक्ता पराग शर्मा ने कहा कि लीज़ा की हत्या समाज की सुरक्षा व्यवस्था की हत्या है।

इस हत्याकांड ने बता दिया है कि आज हरियाणा में हमारी बहन, बेटियाँ सुरक्षित नहीं हैं, खट्टर सरकार में ऐसे मामले कम नहीं होने की जगह दिनों दिन बढतें ही जा रहे हैं, पराग ने कहा कि अपराधी कानून की गिरफ्त में जरूर है किंतु क्या लीज़ा अब वापिस आएगी? इसका दोषी कौन है, आज अपराधियों में न कानून का खौफ है, न ही सरकार का, इसलिए ऐसी वारदातें आज खुलेआम दिनदहाड़े हो रहीं हैं, पराग ने कहा कि हकीकत यह है कि हरियाणा की आधी आबादी आज डर, दहशत के माहौल में जीने को अभिशप्त है, इसका दोषी कौन है?, पराग ने यह भी कहा सरकार भले ही महिलाओं की सुरक्षा पर अपना गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाती रहे, किन्तु अब बल्लभगढ़ की जनता जाग चुकी है, हम लोग लीज़ा को इंसाफ जरूर दिलायेंगे, हत्यारे को फाँसी के तख़्त पर पहुँचाकर ही शांत वैठेंगें।

इस कैंडल मार्च में नगर के सैकड़ों युवा, युवतियों, समाजसेवियों, स्कूल के बच्चों ने बढ़चढ़कर भाग लिया, We Want Justice, लीज़ा के हत्यारे को फाँसी दो, के नारे लगाए, इस मार्च में योगेश (लीज़ा का भाई), बिजेंदर, सरदार उपकार सिंह,धर्मवीर, अंकिता, अंजू, शीतल आदि युवा, समाजसेवियों ने समाज की सुरक्षा व्यवस्था की कड़ी आलोचना करते हुए, सरकार से महिलाओं की सुरक्षा की अपील कर, न्यायालय से हत्यारे को फाँसी की सज़ा देने की मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here