कँवर शैलेन्द्र सिंह नम्बरदार ने निर्जला एकादशी के अवसर पर पिलाया मीठा पानी

0
34

न्यूज़ एनसीआर , (शारा गर्ग) 13 जून-फरीदाबाद| तपती गर्मी के मौसम में पानी पिलाना बहुत ही पुण्य का काम होता है। पानी से शरीर में ग्लूकोस का स्तर बना रहता है। गर्मी से बचने के लिए समय समय पर पानी पीना बहुत ही जरुरी है कहना है जिला परिषद् वार्ड नंबर पांच से कँवर शैलेन्द्र सिंह नम्बरदार का जिन्होंने आज एनआईटी स्थित अपने कार्यालय के सामने निर्जला एकादशी के अवसर पर लोगों को मीठा पानी पिलाया।

शास्त्रों के अनुसार हिन्दू धर्म में निर्जला एकादशी का यह व्रत बिना पानी पिए और दिन भर व्रत रखकर किया जाता है। इस उपवास का महत्व कठिन तप और साधना के समान होता है। हिन्दू पंचाग के अनुसार वृषभ और मिथुन सक्रांति के बीच शुक्ल पक्ष की एकादशी निर्जला एकादशी कहलाती है। इस व्रत को भीमसेन एकादशी या पांडव एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक मान्यता है कि पाँच पाण्डवों में एक भीमसेन ने इस व्रत का पालन किया था और वैकुंठ गए थे, इसलिए इसका नाम भीमसेनी एकादशी भी हुआ।

कहा जाता है की निर्जला एकादशी का व्रत कर लेने से अधिकमास की दो एकादशियों सहित साल की 25 एकादशी व्रत का फल मिलता है, जहाँ साल भर की अन्य एकादशी व्रत में आहार संयम का महत्व है। इस व्रत में जल ग्रहण नहीं किया जाता है यानि निर्जल रहकर व्रत का पालन किया जाता है। यह व्रत मन को संयम सिखाता है और शरीर को नई ऊर्जा देता है। यह व्रत पुरुष और महिलाओं दोनों द्वारा किया जा सकता है। इस मोके पर सुभाष तनेजा, कमल कांत विक्रम सिंह, राहुल समेत भरी संख्या में समाज सेवी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here