सीएम ने फरीदाबाद में एम.एस.एम.ई. उद्योगों के लिए की बड़ी घोषणाएं,

0
54

न्यूज़ एनसीआर, 28 जून-फरीदाबाद | हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने औद्योगिक नगरी फरीदाबाद के सेक्टर-12 में लघु, सूक्ष्म और मध्यम उद्योगों को बड़ी राहत प्रदान करते हुए नाॅन कन्फर्मिंग एरिया के 70 प्रतिशत से अधिक भौगौलिक क्षेत्र में विकसित एम.एस.एम.ई. ईकाइयों को रेगुलर किए जाने सहित अनेक घोषनाएं की। मुख्यमंत्री ने हरियाणा औद्योगिक सर्वेक्षण- 2019 करवाने की घोषणा की, 70 प्रतिशत से कम क्षेत्र की ईकाइयों को भी अलग प्रकार से सरकार का राहत प्रदान करने का प्रस्ताव है, जिसके तहत ऐसे क्षेत्रों के लोगों के रहन-सहन को बेहतर किया जाएगा। सरकार द्वारा पीपीपी मोड पर ऐसे उद्यमियों को दूसरे स्थान पर ज़मीन भी मुहैया करवाई जाएगी और उस क्षेत्र को वाणिज्यिक क्षेत्र घोषित किया जाएगा। ऐसी वाणिज्यिक क्षेत्र से प्राप्त राजस्व हरियाणा सरकार और उद्यमी 50-50 प्रतिशत के अनुपात में वहन करेंगे, अपने 50 प्रतिशत के इस राजस्व से उद्यमी दूसरी जगह ज़मीन खरीद सकते हैं और अपनी इकाई स्थापित कर सकते हैं, इससे दूसरे क्षेत्र का भी विकास होगा। सरकार की नई उद्यमी प्रोत्साहन नीति- 2015 के तहत औद्योगिक क्षेत्र में पिछड़े ग्रुप – सी व डी खंडों में अनेक रियायतें दी गई हैं, जिसमें 20 किलोवाट लाॅड तक की इकाईयों के लिए बिजली की दर 4.75 प्रति युनिट की गई है। इसके अलावा हरियाणा के लोगों के लिए रोजगार देने के लिए 3 साल तक सरकार की ओर से 3 हजार रुपये महीना अर्थात 1 लाख 8 हजार रुपये उस उद्यमी को दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि फरीदाबाद से उनका पुराना नाता है, फरीदाबाद का जिस ढंग से औद्योगिक विकास होना चाहिए था वह पिछली सरकारों ने नहीं किया, उन्होंने कहा कि पुराने फरीदाबाद के घर – घर में छोटी – छोटी इकाई हैं। हरियाणा विधानसभा में इन इकाईयों को राहत प्रदान करने के लिए बिल पारित किया गया था, परंतु केंद्रीय श्रम कानून में आवश्यक संशोधन के लिए मुख्यमंत्री की ओर से केंद्र सरकार को अर्ध सरकारी पत्र लिखा गया है, जिसमें बिजली के साथ स्थापित इकाई पर फैक्टरी एक्ट लागू करने के लिए मजदूरों की संख्या 10 से बढ़ाकर 20 करने और बिना बिजली वाली इकाई में मजदूरों की संख्या 20 की बजाए 40 करने की अनुमति मांगी गई है। मुख्यमंत्री ने फरीदाबाद के निकपुर गांव में 6 एकड़ में 66 केबी क्षमता का सब-स्टेशन स्थापित करने की घोषणा की जो मार्च- 2020 तक पूरा हो जाएगा, साथ ही उन्होंने सेक्टर-58 में 220 केबी क्षमता का सब-स्टेशन स्थापित करने की भी घोषणा की और कहा कि पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए 17 विभागों की सेवाएं एक ही छत के नीचे हरियाणा उद्यम प्रोत्साहन केंद्र, पंचकूला में उपलब्ध करवाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों में भूमि अधिग्रहण के नाम पर टाके मारे जाते थे, इस व्यवस्था को ठीक करने के लिए हमने ई-भूमि पोर्टल लाॅन्च किया है।

विपुल गोयल ने समारोह में पहुंचने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पहली बार कोई मुख्यमंत्री एमएसएमई उद्यमियों के साथ सीधे संवाद के लिए फरीदाबाद आए हैं अन्यथा पहले उद्यमियों को चंडीगढ़ व दिल्ली औपचारिकता मात्र बुलाया जाता था और कहा कि एचएसआईआईडीसी के औद्योगिक प्लाॅट आज से साढ़े 4 वर्ष पहले प्राप्त करने के लिए कितने धक्के खाने पड़ते थे, अब सरकार इसमें पूरी पारदर्शिता लेकर आई है और उन्होंने संघ के अध्यक्ष द्वारा फरीदाबाद में रेलवे या डिफेंस की कोई मदर युनिट स्थापित करने की मांग का समर्थन करते हुए कहा कि यह फरीदाबाद के औद्योगिक विकास के लिए आवश्यक है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रसंघ की स्मारिका का विमोचन भी किया, इससे पूर्व मुख्यमंत्री विधायक श्रीमती सीमा त्रीखा के पिता के आज हुए निधन पर शोक व्यक्त करने उनके निवास स्थान भी गए। कार्यक्रम में विधायक मूलचंद शर्मा, टेकचंद शर्मा व नागेंद्र भडाना, बीजेपी जिलाध्यक्ष गोपल शर्मा, शहरी स्थानीय निकाय विभाग के प्रधान सचिव आनंद मोहन शरण, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, श्रम आयुक्त नितिन यादव, फरीदाबाद नगर निगम आयुक्त अनीता यादव, उपायुक्त अतुल द्विवेदी, पुलिस आयुक्त संजय कुमार सहित बड़ी संख्या में उद्यमी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here