पांचवा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : 21 जून को मनाया जाता है योग दिवस

0
10

न्यूज़ एनसीआर, (शारा गर्ग) 21 जून – फरीदाबाद | अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है। यह दिन वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है और योग भी मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है। पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया, जिसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी जिसमें उन्होंने कहा: “योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य है; विचार, संयम और पूर्ति प्रदान करने वाला है तथा स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी प्रदान करने वाला है। यह व्यायाम के बारे में नहीं है, लेकिन अपने भीतर एकता की भावना, दुनिया और प्रकृति की खोज के विषय में है। हमारी बदलती जीवन- शैली में यह चेतना बनकर, हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद कर सकता है। तो आयें एक अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करते हैं, जिसके बाद 21 जून को ” अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” घोषित किया गया। 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 177 सदस्यों द्वारा 21 जून को ” अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस” को मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली।

देश-विदेश में लोगों पर योग-ध्यान का ऐसा जादू चढ़ा है कि यह अब एक बड़ी इंडस्ट्री की शक्ल अख्तियार कर चुका है। आज पूरा विश्व भारत की तरफ टकटकी लगाए देख रहा है और भारत के सामने योग का एक बहुत बड़ा बाजार है। जहां तक भारत की बात की जाए तो लोगों की सुबह की शुरुआत ही योग-ध्यान से होती है और अब तो स्कूल-कॉलेज, सरकारी या कॉर्पोरेट कार्यालय, सेना अस्पताल ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है, जहां योग से लोग लाभान्वित न हो रहे हों। लोगों के दिन की शुरुआत ही घर या पार्क में योग और व्यायाम द्वारा होती है। लोगों में जागरूकता का आलम ये है कि वो योग और व्यायाम का अपनी जिंदगी में नियम की तरह पालन करते हैं।

साल दर साल ये रहे International Yoga Day थीम :-

2015: सद्भाव और शांति के लिए योग Yoga for Harmony and Peace
2016: युवाओं को कनेक्ट करें Connect the youth
2017: स्वास्थ्य के लिए योग Yoga for Health
2018: शांति के लिए योग Yoga for Peace
2019: पर्यावरण के लिए योग Yoga for Climate Action

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here