घाटे में चल रही पलवल सहकारी चीनी मिल की हालत खस्ता

0
2

न्यूज़ एनसीआर, (उदयचंद माथुर) 02 अप्रैल-हथीन | दि पलवल सहकारी चीनी मिल के विद्दुत विभाग में सोमवार को आग लगने हुऐ नुकसान का जायजा लेने शुगर मिल के पूर्व डायरेक्टर व किसान नेता सुखराम डागर मिल फैक्ट्री पहुंचे। डागर ने मिल के मुख्य अभियंता मकेनिकल से भी मुलाकात कर इस घटना के बारे मे चर्चा की। उन्होंने बताया कि आग सार्टसर्किट होने से लगीं है। मिल मे बिजली पैदा करने वाली टरबाइन, एल्टिनेटर सहित पूरा विद्दुत नियंत्रण कक्ष जलकर खाक हो गया।जिससे मिल मे लगभग एक सवा करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। यदि अति शीघ्रता से इस पर काम नहीं किया गया तो अगले साल किसानों के लिए गन्ने को लेकर संकट पैदा हो सकता है।

डागर ने कहा कि जहां तक मुझे लगता है टरबाइन व एल्टिनेटर सहित सभी उपकरण नऐ खरीद कर मिल मे लगाने का काम किया जाए अन्यथा रिपेयर करवाने से लागत भी अधिक आयेगी व बार बार खराब होने का खतरा बना रहेगा। एक कमेटी बनाकर आग लगने के कारणों का भी पता लगाया जाना जरूरी है।क्योंकि मिल पहले बहुत घाटे से चल रही है। किसानों की गन्ने की अदायगी भी समय पर नही हो रही है। कुछ समय पूर्व मिल के उपाध्यक्ष का ब्यान अखबार में छपा था कि मिल की पिराई क्षमता बढाने के लिए सरकार ने खाते में 20 करोड रुपए भेज दिए हैं जबकि यह कोरा झूठ साबित हुआ है। सरकार ने बैंक से मिल को लोन लेकर काम कराने को कहा है। सरकार से मिल को एक रुपया भी अनुदान नही मिला इसे लेकर किसानों मे भारी रोष है।डागर ने कहा कि हमारी सरकार से मांग है कि पलवल शुगर मिल बहुत पुरानी हो गई हैं इसलिए नया प्लांट लगना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here