खाने में बरतें सावधानियां, स्वास्थ्य के साथ हो रहा है खिलवाड

0
47
न्यूज़ एनसीआर, (उदयचंद माथुर) 21 मई-हथीन | गर्मी के मौसम में मौसमी फलों को खाने से पहले सावधानी अवश्य बरतें। ऐसा न हो कि ये मौसमी फल जोकि देखने में अच्छे व पके लग रहे हैं वे आपके स्वास्थय के लिए हानिकारक बन जाएं। क्योंकि अक्सर देखने में आया है कि फल विक्रेता अपनी कमाई के चक्कर में जन साधारण के स्वास्थय के साथ जमकर खिलवाड करते हैं। मौसमी फलों को कैमीकल के माध्यम से पकाकर बेच रहे हैं। जिस कैमीकल का इस्तेमाल कच्चे फलों को पकाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, वह स्वास्थय के लिए हानिकारक होता है। जानकारों की मानें तो बागों से लेकर बाजारों तक में कैल्शियम कार्बाइड या गैस के प्रयोग से फलों को पकाने का खेल चल रहा है। इस धंधे में जुटे लोग कम समय में कच्चे फलों को पकाकर बाजार में धडल्ले से बेच रहे हैं। बाजार में बिक रहे कई तरह के फल लोगों की सेहत खराब कर सकते हैं। कैल्शियम कार्बाइड से पके फल सिर्फ शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक स्तर पर भी इंसान को कमजोर बना सकते हैं। कई दुष्परिणाम होने के बावजूद धन के लालच में फलों के व्यवसायी एक-दो दिनों में फलों को पकाकर बाजार में उतार रहे हैं। गर्मी का समय होने के कारण बाजार में इन दिनों पपीता, आम, मौसमी, अनार, अंगूर और केला जैसे फल खूब बिक्री में हैं। ऐसी बातें सामने आने के बावजूद भी प्रशासनिक अधिकारी भी गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं। जिसके चलते आए दिन लोगों की सेहत से खिलवाड हो रहा है।
हो सकती हैं गंभीर बीमारियां

हथीन के एसएमओ डा. मनीष गर्ग का कहना है कि कैल्शियम कार्बाइड से पकाए फल बहुत खतरनाक होते हैं। इनके लगातार सेवन करने से व्यक्ति को लीवर, दिल, श्वास नली, पाचन व संक्रमण संबंधित गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।
दूसरे राज्यों से आ रहे हैं फल

फल विक्रेताओं के मुताबिक इन दिनों में दूसरे राज्यों से फल आ रहा है। जिनमें आंध्र प्रदेश से आम, मौसमी व पपीता आ रहा है। चीकू और आलू बुखारा हिमाचल प्रदेश व पंजाब से और केला महाराष्ट्र व आंध्र प्रदेश से आ रहा है। दिल्ली मंडी से भी आम यहां पहुंच रहा है। ज्यादातर वहीं से पका हुआ फल यहां आता है। पलवल, दिल्ली व सोहना आदि की मंडियों से रिटेलर फलों को खरीदकर यहां लाकर बेचते हैं।
ये बरतें सावधानियां

फलों को जांच परख के बाद खरीदें। फलों को घर लाने के बाद उनको आधा घंटा पानी में डाले रखें उसके बाद अच्छी तरह से धो कर उनका प्रयोग करें। आम और सेब जैसे फलों को समूचा खाने की बजाए काटकर खाएं। संभव हो तो खाने से पहले फल को छील लें।
क्या कहते हैं एसडीएम

इस बारे में हथीन के एसडीएम वकील अहमद का कहना है कि यह मामला मेरे संज्ञान मे नहीं है। मतगणना के पश्चात सबंधित विभाग को इस संदर्भ में विशेष निर्देश दिए जाएंगे। और जनसाधारण के स्वास्थय के साथ कोई खिलवाड नहीं होने दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here