गंगा नदी संस्कृति की शोधक है और भारतीयता की पहचान है : जगदीश चौधरी

0
19
न्यूज़ एनसीआर, 22 मई-फरीदाबाद | ग्रीन इंडिया फाउंडेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष व वर्ल्ड वाटर काउंसलिंग के सदस्य डॉ. जगदीश चौधरी ने बल्लभगढ़ स्थित बालाजी कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि गंगा नदी नहीं अपितु एक ऐसी पवित्र जलधार है जो मोक्ष दायिनी है। संस्कृति की शोधक है और भारतीयता की पहचान है। वर्तमान परिपेक्ष में सरकारी तंत्र के द्वारा उपेक्षा, जन जागरण की कमी, जन शिक्षा के अभाव में बड़े बांध गंगा के अस्तित्व पर खतरा है। अब समय आ गया है कि गंगा को निर्मल करने हेतु सरकार व जनता मिलकर प्रयास करें जहां एक और सरकार गंगा कानून बनाए बड़े बांधों को नष्ट करें तथा खनन पर रोक लगाएं वहीं जनता को चाहिए कि वह भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर गंगा मैया के पुराने गौरव को लाने में मदद करें।
जगदीश चौधरी ने बताया कि गंगा के पुनर्जीवन हेतु 23 मई 2019 को बद्रीनाथ अलकनंदा के उद्गगम स्थल माना गांव में पूरे भारतवर्ष से गंगा सेवक इकठे होंगे और अबकि बार अवरिल गंगाधार की शपथ लेकर इस दिशा में कार्य करेंगे। चाहे कोई भी सरकार आए उनसे पहले गंगा भक्त अपनी शपथ पर कार्य करेंगे और सरकार तथा जनता को जागरुक करने का काम करेंगे द्य इस अभियान में जल पुरुष राजेंद्र सिंह, आंध्र प्रदेश से सत्य उत्तर प्रदेश से सुबोध नंदन शर्मा, कृष्ण पाल, ज्ञानेंद्र रावत उत्तराखंड से भोपाल सिंह आदि सैकड़ों कार्यकर्ता इस कार्य की शुरुआत करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here