शराब के ठेके बंद करने को लेकर महिलाओं ने की प्रेस वार्ता

0
70
न्यूज़ एनसीआर, 27 मार्च-फरीदाबाद | फरीदाबाद एनआईटी स्थित गॉल्फ़ क्लब में संस्कार फाउंडेशन की महिला विंग ने प्रेस वार्ता का आयोजन किया जिसमें शराब वह शराब से दूषित होते समाज को बचाने वे तादाद खुलते हुए शराब के ठेकों अहातों के विरोध में आवाज उठाई गई। पिछले साल अवैध तौर पर चलाए गए आहाता के  विरोध में व आज गीता निवास सोसाइटी के सामने शराब  के ठेके को हटवाने के विरोध में सेक्टर 48 फरीदाबाद गीता निवास सोसाइटी के सामने 31 अगस्त 2018 से 14 सितंबर 2018 तक महिलाओं के द्वारा आंदोलन किया गया था। रिहायशी इलाकों में बढ़ते हुए ठेकों के खिलाफ संस्कार फाउंडेशन की विचारधारा है कि – समाज को बचाने के लिए सरकार अपनी नई आबकारी नीति बनाए और ठेकों की संख्या निर्धारित करें और मापदंडों पर पुनः मंथन करें। जिससे समाज में फैल रही विकृति नशे बाजी आए दिन झगड़ा फसाद, छेड़छाड़, बलात्कार तथा अन्य हो रहे अपराधों पर अंकुश लगाया जाए ।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह मुख्य मुद्दे रहे

  • रिहायशी इलाकों में ठेके नहीं होने चाहिए।
  • बिना जनता की मांग के ठेके नहीं खोले जाएं
  • जिस तरह गांव में पंचायत से पूछकर और इजाजत लेकर ठेके को ले जाते हैं उसी तरह शहर में भी आरडब्लूए और वहां के मौजूदा निवासियों से पूछ कर ही शराब के ठेके और अहाता खोले जाएं
  • ग्रीन बेल्ट में ठेकों के लिए लीज परमिशन ना दी जाए
  • शराब का अधिकतम मूल्य निर्धारित हो
  • खुले में शराब की तस्करी पर लगाम लगाई जाए
  • शराब को जीएसटी के दायरे में लाया जाए
शराब के ठेकों पर जो टेंपरेरी बिजली के मीटर लगाए जाते हैं । ठेकेदारों से पहले ही 1 साल की अग्रिम राशि जमा कराई जाए।
इस मौके पर संस्कार फाउंडेशन कि संयोजक परमिता चौधरी ने बताया कि – शराब के ठेकों को रिहायशी इलाकों मे खोलने से पहले वहां की आरडब्ल्यूए और वहां के मौजूदा लोगो से राय लेनी चाहिए। अगर वहां के लोग ठेके के खिलाफ हैं तो वहां पर ठेका नहीं खोलना चाहिए क्योंकि रिहायशी इलाकों में ठेका खोलने से वहां पर कोई भी दुर्घटना होने की आशंका ज्यादा रहती है खासकर महिलाओं के साथ जैसे फब्तियां कसना, छेड़खानी करना देर सवेर जाते हुए नशेड़ी के द्वारा महिलाओं का रास्ता रोकना, दुर्व्यवहार करना और ऐसा ही एक ठेका सेक्टर 48 गीता निवास सोसायटी के बिल्कुल सामने है जिसकी वजह से आए दिन ऐसी वारदातों से और भय से गुजरना पड़ता है। वहां के लोग और आरडब्ल्यूए नहीं चाहते कि यह शराब का ठेका यहां रहे। अगर फिर भी प्रशासन और सरकार यहां पर शराब का ठेका खोलते हैं या यहां से ठेका नहीं हटाते हैं तो फिर जनता सड़कों पर भी आएगी और बहुत बड़ा आंदोलन होगा।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में परमिता चौधरी, रेनू चौधरी, दिव्या आर्य, सीमा भारद्वाज, पुष्पा सिंह, कोमल, प्रीति दुबे, इंदु सैनी, रेहमानी खान, शबनम, पूजा, निदा, रितु अरोड़ा, पिंकी, वरुण, बाबा राम केवल, जसवंत पवार, राजन गुप्ता, सचिन चौधरी, राज शर्मा मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here