अभिभावक और अध्यापक की मिलीभगत से खूब हो रही परीक्षा केंद्रों पर नकल, ऐसे बनेगा हमारे देश का भविष्य

0
40
न्यूज़ एनसीआर, (मनीष आहूजा) 10 मार्च-पुन्हाना | हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की 10वीं व 12वीं कक्षा की परीक्षाओं को नकल रहित कराने के प्रशासन के दावे पूरी तरह विफल साबित हुए हैं। परीक्षाओं के दौरान परीक्षा केंद्रों पर जमकर नकल चल रही है। शनिवार को हरियाणा विद्यालय बोर्ड की 12वीं कक्षा का हिन्दी का पेपर हुआ। लेकिन बोर्ड के नकल रहित परीक्षा के दावे पुन्हाना में फैल होते नजर आएं जिसके चलते पुन्हाना राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में स्कूल अध्यापकों की मिलिभग से परीक्षा केन्द्रों के अन्दर परिक्षार्थियों ने जमकर नकल की। नकल रोकने के लिए बोर्ड ने परीक्षा केन्द्रों के बाहर पुलिस सुरक्षा के लिए तो कड़े प्रबंध कर दिए लेकिन परीक्षा केन्द्रों के अन्दर अध्यापकों का हस्तक्षेप के कारण जमकर पर्चीयों से नकल कराई गई।  12वीं की परीक्षाओं को नकल रहित कराने में शिक्षा विभाग बेबस रहा। बाहरी तत्व परीक्षा केंद्र के भीतर जाकर नकल फेंक रहे हैं।
आप को बता दें कि परीक्षा केन्द्र के बाहर नकल फाडने वालों का जमावाडा लगा रहा। जो पर्चीयों को फाडकर अन्दर परिक्षार्थियों को पंहुचा रहे थे। और परीक्षा देने वाले बच्चे बिना डर और निशंकोच के नकल करते हुए देखे गए। प्रशासन ने 10वीं और 12वीं की परीक्षा के लिए जिले के 37 स्कूलों में 58 परीक्षा केन्द्रों बनाए गए है। वहीं नकल रोकने के लिए जिले में दस से अधिक उडनदस्तों में बोर्ड के चैयरमेन, एक उडनदस्तें में बोर्ड के सचिव, एक उडनदस्ते में बोर्ड के डीसी, दो उडनदस्ते एसडीएम, एक उडनदस्ता सीटीएम, एक उडनदस्ता डीईओ, एक उडनदस्ता डीईईओ और पांच उडनदस्ते बीईओ के हैं। लेकिन फिर भी परिक्षा केन्द्रों के अन्दर परिक्षार्थी बिना डर के खुले आम पर्चीयों से नकल कर रहे है। नकल करने से बच्चे पास तो हो जाएंगे लेकिन मेवात जैसे जिले में पढने वाले बच्चों का जीवन अंधकारमय हो जाएगा। बच्चे परीक्षा केन्द्रों सिर्फ नकल करने के सहारे बैठे रहते है। इस बारे में खंड शिक्षा अधिकारी का कहना है कि परीक्षा केन्द्रों में मौके पर जाकर निरक्षण किया गया। अध्यापकों को सख्ती से डूयूटी करने के आदेश दिए गए। अगर कहीं लापरवाही हुई तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। इस बारे में हरियाणा बोर्ड के चैयरमेन जगबीर सिंह को अवगत कराया गया तो उन्होंने बताया कि बोर्ड की परीक्षाओं को लेकर केन्द्रों पर निरक्षण किया जा रहा है ताकि परीक्षाओं को पूरी तरह नकल रहित कराएं जाएं। जिसकों लेकर पुलिस प्रशासन का पूरा सहयोग लिया जा रहा है।
धारा 144 का कोई असर नहीं परीक्षा केंद्रों पर धारा 144 लगने के बावजूद इसका कोई असर नहीं दिख रहा है। सभी परीक्षा केंद्रों के बाहर 200 मीटर के भीतर बाहरी तत्व दिखाई दे रहे है। राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय की बात करें तो यहां परीक्षा केंद्रों पर नियमों की धज्जियां उड़ रही है।  परीक्षा केंद्रों के हालात इस प्रकार के हैं तो अन्य जगहों पर बनाए परीक्षा केंद्रों के हालात किस प्रकार होंगे अंदाजा लगाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here