तामा – ब्रूरी एंड वर्ल्ड किचन की पहली सालगिरह पर पहुंचे निज़ामी बंधु

0
71
न्यूज़ एनसीआर, (एकता रमन) 24 फरवरी-फरीदाबाद | शहर में यूँ तो खाने पीने और मनोरंजन की बहुत सी जगहें हैं पर जहां एक ही जगह सब कुछ मिल जाए, ऐसी बहुत गिनी चुनी। उस पर से अच्छे माहौल, जनता या जिसे हम क्राउड कहते हैं, का मिल जाना तो समझो सोने पे सुहागा वाली बात हो जाती है।
कुछ ऐसा ही नज़ारा हमें देखने को मिला सेक्टर-16 स्थित पब, तामा – ब्रूरी एंड वर्ल्ड किचन में। तामा ने 22 फरवरी शुक्रवार को अपनी पहली सालगिरह बहुत धूमधाम से मनाई। इस अवसर पर बॉलीवुड के मशहूर कव्वाल निज़ामी बंधुओं को भी शामिल किया गया। इनकी ख़ासियत है कि ये कव्वाली करते हैं जो अमीर खुसरो ने हज़रत निज़ामुद्दीन के सम्मान में लिखी थी। 2011 में, ये बहुचर्चित फिल्म रॉकस्टार में ‘कुन फाया कुन’ गाने में अभिनेता रणबीर कपूर के साथ निज़ामुद्दीन दरगाह पर गाते हुए दिखाई दिए। 2015 में इन्होंने फिल्म बजरंगी भाईजान में भी गाना गाया था जिसे कबीर खान ने निर्देशित किया था। इनका गाया ‘आज रंग है’ जिसे अमीर खुसरो ने लिखा है भी काफ़ी मशहूर है।
तामा की पहली वर्षगांठ पर निज़ामी बंधु ने अपनी गायिकी से समां बांध दिया। उन्होंने अपने गाए गानों के अलावा कई फरमाइशें भी पूरी की। इस शाम की सबसे धमाकेदार प्रस्तुति रही – ‘दिल दिया है जां भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए’। ग्रुप के मुख्य गायक उस्ताद चाँद निज़ामी ने बताया – “फरीदाबाद शहर में मैं बहुत बार आ चुका हूँ और यहां के लोगों से हमें बेहद प्यार मिला है। यहां सभी लीग सूफी गायिकी और कव्वालियों को बहुत पसंद करते हैं और इसी प्यार से हमें और हौंसला मिलता है”। उन्होंने बुलाए जाने के लिए तामा के पंकज मेहंदीरत्ता का आभार व्यक्त किया।
पंकज ने बताया के उन्होंने तामा को सिर्फ इसीलिए शुरू किया के फरीदाबाद वासियों को पब या क्लब का आनंद उठाने के लिए दिल्ली या गुरुग्राम ना जाना पड़े। तामा ने पहले ही साल में फरीदाबाद का दिल जीत लिया है और पेज 3 के एक नए कल्चर की शुरुआत की है। आने वाले दिनों में पंकज फरीदाबाद को बहुत कुछ देने वाले हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here