नव नियुक्त निगमायुक्त ने बल्लभगढ जोन के संयुक्त आयुक्त को जारी किया कारण बताओ नोटिस

0
16
न्यूज़ एनसीआर, 18 जनवरी-फरीदाबाद | फरीदाबाद नगर निगम आयुक्त अनीता यादव ने आज एसडीओ ओ.पी. मोर मामले में पूर्व निगमायुक्त मोहम्मद साईन द्वारा आदेश जारी न करने के बाद भी जांच न करने को लेकर आज बल्लभगढ जोन के संयुक्त आयुक्त अमरदीप जैन को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए आयुक्त ने बल्लभगढ शहर में लगातार बढते अवैध निर्माण व अतिक्रमण, लगातार कम होती कर बसूली, निगमायुक्त द्वारा मांगी गई जानकारी उपलब्ध न कराने सहित कई अन्य मामलो में वेरुखी की बात कही है।
संयुक्त आयुक्त को लिखे पत्र में निगमायुक्त ने कहा है कि गत दो नवम्बर 2018 को ओल्ड जोन के संयुक्त आयुक्त द्वारा तत्कालीन निगमायुक्त को लिखे अपने पत्र जिसमें उन्होंने नहर पार व्यापक स्तर पर अवैध निमार्णों की बात कही थी तो पहले तो तत्कालीन निगमायुक्त ने सबंधित सहायक अभियंता ओ पी मोर के खिलाफ एफ आई आर के आदेश जारी किए थे तथा फिर छह दिसम्बर 2012 को निगमायुक्त ने ओपी मोर को निलम्बित करने के आदेश जारी करते हुए बल्लभगढ के संयुक्त आयुक्त को मामले की जांच कर रपट देने को कहा ताकि आगे की कार्रवाई की जा सके।
संयुक्त आयुक्त को लिखे पत्र में निगमायुक्त ने लिखा है कि कार्यालय में उपलब्ध रपट के अनुसार एसीएमसी कार्यालय की मार्फत उक्त पत्र बल्लभगढ संयुक्त आयुक्त को भेजा गया, लेकिन उसका अभी तक कोई जबाव नहीं आया। न ही अभी तक ओ पी मोर के खिलाफ एफ आई आर की गई और न ही उनको निलम्बित किया गया। कारण बताओं नोटिस में निगमायुक्त ने कहा है कि वीरवार को इस संदर्भ में कार्यालय को संयुक्त आयुक्त की तरफ से मिले पत्र में इस जांच को न कर पाने का करण काम की अधिकता बताया गया है जो कि संतोषजनक नहीं है। निगमायुक्त ने संयुक्त आयुक्त ने से लाहपरवाही के बारे में कारण पूछते हुए यह भी पूछा है कि क्यो न उनके इस रुख की लिखित जानकारी सरकार को दी जाए।
इसके साथ ही एक अन्य पत्र में निगमायुक्त ने कहा है कि बल्लभगढ जोन में पहले 2015-16 में 23.55 करोड की कर बसूली हुई थी, सन 2016-17 में यह बसूली मात्र 13.24 करोड रुपए रह गई, इसी प्रकार से शहर में अवैध निर्माण, अतिक्रमण हटाने इत्यादी पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। निगमायुक्त के इस पत्र के बाद प्रशासनिक गलियारों में हडकम्प का आलम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here