कलाश्री फाउंडेशन ने फरीदाबाद में की अपनी पहली शास्त्रीय संगीत की बैठक

0
337
न्यूज़ एनसीआर, (एकता रमन) 22 जनवरी-फरीदाबाद | कलाश्री फाउंडेशन ने फरीदाबाद में अपनी पहली शास्त्रीय संगीत की बैठक का आयोजन शनिवार 19 जनवरी को किया। बैठक सेक्टर 46 स्थित संस्कृति अपार्टमेंट्स में कलाश्री फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. भूपेन्द्र मल्होत्रा के निवास स्थान पर आयोजित की गई।
इस संगीतमयी बैठक में कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर के कलाकार संगीत का आनंद लेने के उद्देश्य से उपस्थित थे। सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायक अरुल सेठ एवं सितार वादक भैरवी शर्मा भट्ट ने अत्यंत सुंदर ढंग से अपनी प्रस्तुतियों से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।
अरुल सेठ ने अपनी प्रस्तुति राग मुल्तानी में विलंबित ख़याल – “तू साहिब जमाल” से आरंभ की। इसके बाद द्रुत ख़याल – “कंगन मुदरिया” और अरि द्रुत में “नैनन में आन बान” समां बांध दिया। अपनी प्रस्तुति का समापन अरुल ने राग पहाड़ी में एक ठुमरी और भजन “रघुवर तुमको मेरी लाज” से बड़े ही शानदार तरीके से किया।
इसके पश्चात सितार वादक भैरवी शर्मा भट्ट ने राग बसंत मुखारी में आलाप जोड़ से अपनी प्रस्तुति की शुरुआत की। तत्पश्चात आलाप झाला मसीतखानी एवं रजाखानी गत झाला सुनाया। सितार वादन का समापन “बीते ना बिताई रैना”, इस मधुर गीत से किया गया। दोनों ही प्रस्तुतियों में तबले पर संगत कर रहे थे जाने-माने तबला वादक मधुरेश भट्ट और हारमोनियम पे थे अंकित कौल। कार्यक्रम का सकुशल संचालन गुरुग्राम से आए डॉ. लोकेश शर्मा ने की।
इस मौके पर उपस्थित पंडित देवेंद्र वर्मा का कहना था – “इस तरह की संगीत बैठकें और होनी चाहिये ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियों को अपनी धरोहर की जानकारी मिले।” बैठक में अमित चक्रपाणि (ONGC), चारु चक्रपाणि, मनीश त्रिखा, दीपिका त्रिखा, शास्त्रीय गायिका दीप्ति शर्मा, अंजू मुंजाल, सुमन चैटर्जी, कलाश्री फाउंडेशन के जनरल सेक्रेटरी राजभूषण, संजय पजनी, पी.बी.जैन (अधिवक्ता, सुप्रीम कोर्ट), दिपेंद्र चौहान, डी.ए.वी कॉलेज, फरीदाबाद से भगत दम्पति एवं शहर के अन्य सम्मानित संगीत प्रेमी भी शामिल हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here