जीना है तो जाग जाओ, मरना है तो भाग जाओ : प्रवेश मलिक

0
75
न्यूज़ एनसीआर, 11 अक्टूबर-फरीदाबाद | मिशन जाग्रति एक गैर सरकारी सामाजिक पंजीकृत संगठन है जो की पिछले 11 वर्षों से समाज में शिक्षा और चिकत्सा के साथ-साथ पर्यावरण और बच्चो एवं महिला सशक्तिकरण पर काम कर रहा है। मिशन जाग्रति के द्वारा अलग-अलग स्थानों पर स्कूल चलाये जाते हैं उन बच्चों के लिए जो कभी स्कूल नहीं जाते।
संस्था के संस्थापक प्रवेश मलिक बताते है कि मिशन जाग्रति की स्थापना के बारे में जब अपने दोस्तों मनोज पलावत, सतीश भाटी और दिनेश चंद, सुशिल कुमार, राजेश सिरोहिया, नरेश कुमार रितेश अरोड़ा, ब्रिज किशोर, महेश आर्य  दीपक त्यागी, रवि कुमार, नाजिम खान आदि को बताई तो वे सब तुरंत ही समाज सेवा की राह पर चलने के लिए तैयार हो गए।
इस मौके पर उन्होंने कहा कि देखते ही देखते जो छोटा सा पौधा लगाया जो आज धीरे-धीरे एक बड़ा वृक्ष बनने लगा है और आज इस संगठन के साथ लगभग 1500 से ज्यादा वालंटियर है जो हमेशा सामाजिक कामों में, जागरूकता अभियानों में, जरुरत पड़ने पर शाशन और प्रशाशन के साथ खड़े रहते हैं। अभी फिलहाल हरियाणा के कुछ जिलों में संस्था काम कर रही है और अगले एक साल में हरियाणा राज्य के हर जिले में मिशन जाग्रति के वालंटियर काम कर रहे होंगे।
वहीं एड़ी सीनियर सेकेंडरी स्कूल के प्रिंसिपल व मिशन जागृति के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष श्योराण ने संस्था के सभी पदाधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि, संस्था पिछले 11 सालों से जिस दिशा में काम कर रही है वह बहुत सराहनीय है, संस्था का नाम मिशन जागृति है और काम समाज को जागरूक करना है। उन्होंने कहा कि, नए सदस्य जो संस्था से जुड़ रहे हैं वे निजी महत्वकांक्षी न होकर समाज के प्रति महत्वकांक्षी बनें।
आज संस्था के द्वारा जरुरत मंद बच्चों के लिए चार स्कूल, एक पुस्तकालय, बुक बैंक चलाया जा रहा है। संस्था के द्वारा जिला रेडक्रॉस समिति के साथ मिल कर रेन बसेरा, हर साल रक्त दान शिविर, पर्यावरण के लिए काम और बच्चों, महिलाओं एवं बुजुर्गो के लिए लगातार काम किया जा रहा।
संस्था के संस्थापक सदस्य और पहले अध्यक्ष मनोज पलावत रहे इसके बाद डॉक्टर पवन पिलानिया रहे और अभी डॉक्टर सुभाष श्योरान मिशन जाग्रति के प्रदेश अध्यक्ष हैं।जिनके मार्ग निर्देशन में संस्था बहुत बढ़िया काम कर रही है।
प्रवेश मलिक का सपना है की देश में किसी बच्चे बुजर्ग या महिला के साथ कभी कोई दुर्व्यवहार न हो इसके लिए एक ऐसी जगह बनाना चाहते हैं जहां जिनका कोई नहीं हो ऐसे बच्चे, बुजर्ग और महिला एक साथ रहे।
संस्था के संरक्षक और सलाहकार का भी बहुत विशेष योगदान रहता है जिनके नाम कुछ इस प्रकार है जो संस्था में अपना सहयोग कर रहे हैं राजेश चेची, मुनेश पंडित, तेजपाल सिंह, दिनेश रघुवंशी, नरेंदर परमार, विजय बैंसला, डॉ. हेमंत अत्री, सागर कौशिक, सुनील दांगी, सुरेंदर छिकारा, प्रदीप राणा, कविंदर चौधरी, मनोज नाशवा, साहिल नम्बरदार, प्रेम किशन पप्पी, रोहताश शेखावत, अनिल फागना, दीपक चौधरी, आदेश यादव, मनोज यादव आदि।
मिशन जाग्रति का सारा श्रेया प्रवेश मलिक अपने उन वालंटियर साथियों को देते जिनके कारण आज मिशन जाग्रति की पहचान पूरे प्रदेश में है जैसे कंचन लखानी, बबीता तोमर, सोनिया कल्पना, खुशी, मोनिका, अर्चना शर्मा, अनुष्का, प्रीति, आराधना, शुभलेश मलिक बबली, ओमवती, गीता राणा, गीता, सुष्मिता, कंचन, काजल, रुपाली, प्रिय आँचल, निधि, मधु, निशु, पूजा, सुनीता, आशा, रजनी मलिक नीतू मलिक, नर्वदा, सोनिया, पूजा मेहरा, टीना
गुरनाम सिंह, राजेश वशिष्ट, राजेश भूटिया, मुकेश भाटी, विपिन शर्मा, विकाश चौधरी, गौरव भारद्वाज, अनिल सिरोहिया उमेश कुंडू, जय भगवान्, निर्दोष, हिमांशु, अनूप, धरमबीर, रोहित, विपुल, अशोक गोयल, अशोक राजपूत, सतेंदर राजपूत अवतार, आशीष मंगला, आशीष छिकारा, हनीश भाटिया, बंटी ठाकुर, डाल चंद, सूरजभान, कपिल, रोहन, किशन निदावत, प्रमोद योगी, अनिल, अनिल कौशल, सोनल, इन्द्राज, इकबाल कुनाल, लेखराज चौधरी, महेंदर सिंह, गुरचरण, प्रवीण शर्मा, राहुल कालरा, रविंदर, शुभम, राजकुमार गुप्ता, सचिन अरोरा, अवदेश ओझा शिवम्, विजय, सुमित रावत, नवदीप, दीपक शर्मा, निहाल सिंह, गोविन्द, रिंकू, जितेंदर, गौरव, दीपक आदि सभी वॉलिंटियर्स ने इस संस्था में अपना पूर्ण सहयोग दिया है जिसके कारण आज संस्था और विकसित हो रही है।
प्रवेश मलिक की  ये लाइने बहुत अच्छी है कि अधिकार पाने से पहले अपने कर्तव्य निभाओ फिर सीना ठोक के अपना हक पाओ।जीना है तो जाग जाओ-मरना है तो भाग जाओ। मिशन जाग्रति की कोशिश है की हर एक वयक्ति जाग जाये और इसके लिए वो ज्यादा से ज्यादा अपने वालंटियर बना रहे है। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द मिशन जाग्रति फरीदाबाद का सबसे बड़ा सामाजिक संगठन होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here