108वीं वार्षिक शिक्षुता परीक्षा का भारत सरकार द्वारा आयोजन हुआ जारी

0
11
न्यूज़ एनसीआर, 9 अक्टूबर-फरीदाबाद | आईटीआई के प्रधानाचार्य गजेन्द्र कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि, भारत सरकार द्वारा 108वीं वार्षिक शिक्षुता परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि जिसके अन्तर्गत उन सभी अप्रेंटिस शिक्षुओं की वार्षिक परीक्षा होनी निर्धारित की गई है जिन प्रशिक्षुओं की प्रशिक्षण अवधि 16 अप्रैल 2018 से 15 अक्टूबर 2018 के बीच में रही है।
भारत सरकार द्वारा एक पत्र सभी राज्यों को भेजते हुए यह निर्देश दिए गए हैं कि ऐसे सभी पात्र उम्मीदवार जिन्होंने इस अवधि में अपना प्रशिक्षण ग्रहण किया हो कार्यक्रम में भाग ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि ऐसे उम्मीदवारों को अपनी कम्पनी द्वारा अपना पंजीकरण उपलब्ध लिंक पर करवाना होगा।
उन्होंने बताया कि शिक्षुता परीक्षा हेतु रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 27 सितम्बर 2018 से जारी हो चुकी है तथा 15 अक्तूबर 2018 तक चलेगी। इसके लिए सभी कम्पनियों ने रजिस्टेशन कार्य प्रारंभ कर दिया है। भारत सरकार के निर्देशानुसार 26 सितम्बर 2018 को जिन अप्रैटिंसशिप ने 2 मार्च 2017 के बाद जिन शिक्षुओं को अप्रैटिस रखा गया है ऐसे अप्रैटिंस (एनसीवीटी, एससीवीटी) को केवल दो विषयों में ही परीक्षा देनी है (थ्योरी व प्रैक्टिकल) इससे पूर्व के नियुक्त अप्रैटिंसिस (एससीवीटी) को पूर्व की भांति सभी विषयों की परीक्षा देनी होंगी
शिक्षुता एवं प्लेसमेन्ट अधिकारी राजबाला ने बताया कि 108वीं शिक्षुता परीक्षा हेतु जिले में कुल 480 ऐसे शिक्षु हैं जिनकी प्रशिक्षण अवधि 15 अक्टूबर 2018 तक पूरी हो रही है विभाग के निर्देशानुसार सभी योग्य उम्मीदवारों को 100 प्रतिशत परीक्षा में शामिल करने के लिए संस्थान की शिक्षुता शाखा प्रयासरत है। कम्पनी व योग्य उम्मीदवारों को परीक्षा में शामिल होने के लिए संदेश भेजे जा रहे हैं ताकि जिले में सभी योग्य शिक्षुओं को परीक्षा में शामिल होने का मौका मिल सके तथा जिन प्रशिक्षुओं ने पूर्व में आयोजित परीक्षा दी थी, जिसमें वे किसी भी विषय में फेल हों तो वे भी इस परीक्षा के लिए 15 अक्टूबर तक अपना फार्म भर सकते हैं।
यदि किसी भी प्रशिक्षु या प्रतिष्ठान को उपरोक्त जानकारी बारे कोई भी शंका या समस्या हो तो वह 15 अक्टूबर 2018 तक शिक्षुता शाखा राजकीय आईटीआई फरीदाबाद में आकर दूर कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here