DHBVN केबल घोटाला: इनैलो नेता अभय ने सरकार के खिलाफ दिखाए तीखे तेवर

आरटीआई वरुण श्योकंद ने किया था खुलासा

0
343
न्यूज़ एनसीआर, 28 सितंबर-फरीदाबाद | आरटीआई एक्टिविस्ट वरुण श्योकंद द्वारा बिजली विभाग के करोड़ों की केबल घोटाले के मामले में जो शिकायत आरटीआई के जरिये की गयी थी वह अब राजनीतिक दलों और मीडिया में तूल पकड़ रही है। ज्ञात हो कि, हाल ही में कुछ समय पहले फरीदाबाद में आरटीआई एक्टिविस्ट वरुण श्योकंद, अनशनकारी बाबा रामकेवल व पदमश्री ब्रह्मदत्त शर्मा ने मीडिया के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लगभग 500 करोड़ के घोटाले का आरोप DHBVN पर लगाया था, जिसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ ली।
वहीँ अब इस मामले को लेकर दिल्ली में इनैलो नेता अभय सिंह चौटाला ने प्रेस कांफ्रेंस के जरिये केबल घोटाले को नेशनल मीडिया के सामने उजागर किया, जिसमे उनके साथ शिकायतकर्ता वरुण श्योकंद भी रहे। इस पर अभय चौटाला ने कहा कि, मुख्यमंत्री के अपने पावर डिपार्टमेंट में अपना गांव जगमग गांव की योजना में हजारों करोड़ रुपए का घोटाला है। यह विभाग मुख्यमंत्री के पास है, इसमे 7 जिलों के लिए जो वायर खरीदी गई है वह मापदंडों पर खरी नहीं उतरी। इन जिलों में केबल अपने आप टूट-टूट कर गिर रही है और इसमे कई अधिकारियों को सस्पेंड किया और रिकवरी भी डाली है लेकिन यह रिकवरी फर्म से ना करके केवल ठेकेदारों से कर रहे हैं।
केबल घोटाले में जिन फर्मो को ब्लैक लिस्ट करना चाहिए था, उनसे ये खरीद जारी रखी। गुरुग्राम और फरीदाबाद में इस के तहत बहुत खरीददारी हुई, लेकिन इन जिलों को जांच से क्यों बहार रखा गया। इस मामले की एक निपक्ष एजंसी से जांच करवाई जाए और इस मे लिप्त सभी के खिलाफ एफआईआर की जाए। पिलर बॉक्स में 153 करोड़ का घोटाला हुआ था। इस पर FIR दर्ज की गई और 7 अधिकारियों को सस्पेंड किया गया। लेकिन बाद में जिन जिन अधिकारियों को सेपेंड किया गया था उन्हें उसी पोस्ट पर लगा दिया गया।
अब देखना ये होगा कि, सरकार इस मामले में क्या ठोस कदम उठाती हैं। आरटीआई एक्टिविस्ट वरुण श्योकंद के लिए यह एक बड़ी जीत साबित होगी, जोकि वह भ्रष्ट अधिकारों और बड़े ठेकेदारों के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here