ठेका हटाओ आंदोलन : दिन-रात चलेगा ठेके के सामने आंदोलन

अब तो ठेका हट के ही रहेगा - परमिता चौधरी

0
178
न्यूज़ एनसीआर, 13 सितंबर-फरीदाबाद | सेक्टर 48 गीता निवास सोसायटी के सामने से शराब का ठेका हटाने के लिए 14 दिन से संघर्ष जारी है। संस्कार फाउंडेशन की संयोजक परमिता चौधरी ने इस मुद्दे पर गंभीरता जताते हुए आंदोलन की शुरुआत की थी। आंदोलन में उनका साथ अनशनकारी बाबा रामकेवल व युवा आगाज के संयोजक जसवंत पंवार एवं शहर की अनेकों संस्थाओं ने मिलकर संघर्ष को जारी रखा हुआ है।
आज 13 सितंबर के आंदोलन में अनशनकारी बाबा रामकेवल ने आंदोलनकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि, पिछले 14 दिनों के आंदोलन से प्रशासन के कान पर जूं नही रैंग रही है इसलिए अब इस सप्ताह के अंत मे शनिवार व रविवार को दिन रात आंदोलन ठेके के सामने चलेगा। उन्होंने कहा कि, अब तो ठेका यहां से उठकर ही रहेगा।
14 दिनों के ‘ठेका हटाओ आंदोलन’ के संघर्ष का विवरण इस प्रकार है

  • पहला दिन : 31 अगस्त से चंद महिलाओं के साथ अकेले खड़ी होकर परमीता चौधरी ने करी ठेके को हटाने की पहल।
  • दूसरे दिन : 1 सितम्बर से शराब के ठेके के आगे शाम 5 बजे से 6 बजे तक सभी महिलाओ के साथ किया सड़क पर किया मौन प्रदर्शन।
  • तीसरे दिन : 2 सितम्बर को सभी महिलाओं बच्चों और राम केबल बाबा के साथ सहयोग से मौन प्रदर्शन खत्म कर आवाज है कर किया प्रदर्शन। SGM नगर थाने के SHO को पत्र सौंपा।
  • चौथे दिन : 3 सितम्बर को जन्माष्टमी के दिन भी सड़क पर बैठ कर धरना प्रदर्शन किया।
  • पांचवे दिन : शराब माफियाओं द्वारा मिली धमकियों के बावजूद भी परमीता चौधरी ने नहीं मानी हार।
  • छठे दिन : धमकियों सी पी ऑफिस शिकायत दी।
  • सातवें दिन : भरी बारिश में भी खड़े होकर महिलाओ ने और संस्थानों ने खड़े होकर ठेके के सामने प्रदर्शन किया।
  • आठवें दिन : शराब जला कर क्षेत्रीय नेत्री व् प्रशासन के खिलाफ उठाई आवाज।
  • नौवें दिन : MLA सीमा त्रिखा से मिलकर की ठेका हटाने की मांग।
  • दसवें दिन : बी के चौक पर दिया धरना, शराब के ठेकों को हटाने की चलाई मुहिम।
  • ग्यारहवें दिन : फरीदाबाद ही नहीं पलवल के समाजसेवी संघठन तथा रवि हिन्दुस्तानी की टीम का मिला समर्थन।
  • बारहवें दिन : संस्थाओं के लोगो को मिला सहयोग सैकड़ों लोगों से ज्यादा हुई संख्या।
  • तेरहवें दिन : बड़खल विधानसभा क्षेत्र की MLA सीमा त्रिखा की निकाली गई अंतिम यात्रा, हाय हाय के लगाए नारे।
  • चौदहवें दिन : प्रशासन द्वारा सुनवाई न होने पर 24 घण्टे दिन रात आंदोलन ठेके के सामने करने की घोषणा
इस आंदोलन में ये कुछ क्रांतिकारी ऐसे है जो लगातार ठेके को हटवाने की मांग पर समर्थन देते आये हैं – संस्कार फाउण्डेशन से परमिता चौधरी, पुष्पा राजपूत, रहमानी बेगम, रीना, राजवाला यादव, राज शर्मा, कोमल, अनीता शर्मा, इंदु सैनी, शालू, फरजाना, पूनम, बंटी, मोसिम, सरजात, परशुराम, इकबाल, अनुराग, शिवम्, भुवनेश्वर शर्मा, दीपशिखा, नवीन सैनी, सुमित रावत व अनेकों स्थानीय लोग इस संघर्ष में शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here