जैन समाज ने दशलक्षण पर्व के शुभ अवसर पर निकाली भगवान आदित्यनाथ की शोभा यात्रा

0
16

न्यूज़ एनसीआर, (मनीष आहूजा) 27 सितंबर-पुन्हाना | दशलक्षण पर्व को लेकर जैन समाज के लोगों द्वारा मेले का आयोजन कर भव्य शोभा यात्रा निकली गई। जिसमे आदित्यनाथ भगवान को पालकी में बिठाकर शहर भर में से निकाला गया। इस दौरान लोगों ने जगह-जगह पर पालकी पर पुष्प वर्षा करने के साथ ही महावीर भगवान की आरती की। कार्यक्रम के समापन पर जैन मंदिर पर समाज के लोगों ने क्षमावाणी पर्व भी मनाया गया। जिसके तहत सभी लोगों ने पिछले वर्ष हुई गतलियां व भूल को लेकर एक-दूसरे से गले लगकर क्षमा मांगी। कार्यक्रम में जैन समाज के सभी लोगों ने भाग लिया।

इससे पहले उत्तम ब्रहमचर्य पर बोलते हुए मथुरा चौरासी सिद्ध क्षेत्र से ब्रहमचारी भैया ने कहा कि हमें ब्रहमचर्य का पालन करना चाहिए। ब्रहामचर्य का पालन करने से नर से नारायण बना जा सकता है। ब्रहामचार्य नियम सावकों व मुनियों के लिए अलग-अलग हैं। सावकों द्वारा अपनी पत्नी व पुरूष में ही संतोष करना ही ब्रहामचर्य है। उन्होंने क्षमावाणी पर्व के बारे में बताया कि क्षमा वीरस्थ भूषणम क्षमा वीरों का आभूषण है। जीवन में क्रोध को त्याग क्षमा का रूप धारण करना चाहिए। कठोरता, छल कपट व मायाजाल को छोडक़र विनम्र भाव स्वभाव से काम करना चाहिए। जैन समाज से पदमचंद जैन, यतीन जैन व प्रदीप जैन ने बताया कि दशलक्षण पर्व के अतंगर्त मंदिर में 10 दिनों तक अलग-अलग धर्मों के विधानों का आयोजन किया जाता है। जिसके तहत बाहर से आए ब्रहामचारी विद्वान मंदिर में श्रोताओं को धार्मिक उपदेश भी देते हैं। पर्व के अवसर पर भगवान आदित्यनाथ को बैंड- बाजे व पालकी में बिठाकर शहर का भ्रमण कराया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here