डीसीपी एनआईटी ने गैंगरेप पीड़िता को दिया न्याय का आश्वासन, मामले की फिर से होगी जांच

0
126

न्यूज़ एनसीआर, (प्रताप चौधरी) 11 जुलाई-फरीदाबाद | नीमका गांव में बनी कॉलोनी निवासी गैंगरेप की शिकार पीड़िता पिछले लगभग 24 दिनों से बीके चौक पर धरना देकर प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रही है। पिछले दो दिन से कोई सुनवाई न होने पर पीड़िता ने आमरण अनशन कर दिया, जब इस बात की प्रशासन को भनक लगी तो कल 10 जुलाई की शाम डीसीपी एनआईटी नितिका गहलोत पीड़िता से मिलने धरना स्थल पर पहुंची। धरना स्थल पर अनशनकारी बाबा रामकेवल, सेफ & सेक्यूर फरीदाबाद के फाउंडर मेम्बर राजेश वशिष्ठ (बिल्लू) संस्कार फॉउंडेशन की संस्थापक परमिता चौधरी, मिशन जाग्रति मंच के सदस्य राजेश भूटिया, परवेश मालिक, अर्चना शर्मा व जनकल्याण चेरिटेबल ट्रस्ट सदस्य नवीन सैनी, दीपशिखा अधिकारी व इस मुहिम में पीड़िता का साथ दे रहे बहुत से समाजसेवी उक्त समय मौजूद थे।

डीसीपी एनआईटी नितिका गहलोत ने पीड़िता को जूस पिलाकर धरना खत्म कराया। वहीं डीसीपी ने पीड़िता को आश्वासन देते हुए कहा कि, वह इस केस की दुबारा से जांच कराएंगी, और जो भी दोषी होगा उसे शत-प्रतिशत सजा मिलेगी।

गौरतलब है कि, यह घटना जनवरी माह में पीड़िता के साथ हुई थी, जिसको लेकर पीड़ित परिवार ने न्याय के लिए सभी के सामने हाथ फैलाए, परन्तु न्याय नहीं मिला। जिस कारण पीड़ित परिवार अप्रैल महीने में भी धरने पर बैठा था, तो उस समय कोर्ट द्वारा पुलिस को पॉलीग्राफ टेस्ट के ऑर्डर दे दिए गए, लेकिन फिर भी पॉलीग्राफ टेस्ट अभी तक नही कराया गया। पीड़िता का आरोप है कि, आरोपियों में से एक कि सदर थाना के पूर्व एसएचओ के साथ रिश्तेदारी का सम्बंध है, व पूर्व एसएचओ के एसीपी के साथ घनिष्ठ संबंध बताए जाते है, जिस कारण मामले में कोई सुनवाई नहीं की जा रही।

इस पर धरना स्थल पर बैठे बाबा रामकेवलसामाजिक संगठन के सदस्यों का कहना है कि प्रशासन के लिए यह बहुत ही शर्म की बात है, की इतने पुरानी घटना को अभी तक सिर्फ घसीटा जा रहा है। बाबा रामकेवल ने कहा कि, अगर प्रशासन को न्यायिक जांच में पीड़ित परिवार गलत पाया जाता है तो इनकी गिरफ्तारी करो नहीं तो उन आरोपियों को सलाखों के पीछे डालो।

अब देखना ये है कि, डीसीपी साहिबा की भागीदारी इस केस को किस मुकाम तक ले जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here