संगीत में रोजगार हेतु सांस्कृतिक कोटा एवं स्कूल-कॉलेजों में संगीत शिक्षा अनिवार्य हो

0
117

न्यूज़ एनसीआर, (एकता रमन) 21 जून-फरीदाबाद | प्रदेश सरकार ने संगीत आयोजनों हेतु बजट तो बढ़ाया है किंतु रोजगार नही। सम्मानीय कलाकर हेतु सांस्कृतिक कोटा बनाकर कलाकरो को रोजगार दिया जाए, कलाकार क्लर्क का भी काम कर सकता है, डाटा कम्प्यूटर की सेवाएं दे सकता है अतः कलाकार किसी भी पद का काम कर सकता है। रोजगार मिलने से संगीत के प्रति रुझान बढ़ेगी, देश की प्रतिभाओं को संरक्षण मिलेगा, रोजगार मिलने से आयोजकों से सांठ गांठ की भृष्टनीति पर रोक लगेगी, मजबूर बेरोजगार कलाकार आर्थिक उपार्जन हेतु आयोजकों के चक्कर नही लगाएगा, आज अनेक बेरोजगार कलाकार आर्थिक रूप से मजबूर हैं, जो पैसा कमाने हेतु शासन या प्राइवेट सांस्कृतिक विकाश संस्थानों से संपर्क बनाता रहता है। घरानेदार कलाकार तो निश्चिन्त है उन्हें मंच मिल रहे है किंतु अन्य मध्यम कलाकार कला का अभ्यास छोड़ दूसरी आर्थिक व्यवस्था में जा रहा है।

सरकार ने सरकारी शिक्षण संस्थानों में संगीत विद्या को बंद कर दिया है। जिसमे कुछ शहर निम्नलिखित हैं – बहादुरगढ़, इंद्री, कालका व पंचकूला।

‘संगीत ऐसी कला है जो कुछ खाश में ही होती है अतः उन्हें संरक्षण मिलना चाहिए – यानी रोजगार’

संगीत शिक्षा स्कूलों में अनिवार्य कर देना चाहिए, वर्तमान में स्कूलों एवम कालेजों में संगीत पदों की भर्ती बंद है अनेक पद खाली पड़े है कलाकार बेरोजगारी से दुखी है ।

संगीत में रोजगार से फायदे


  • दैविक कला का संरक्षण
  • संगीत से मनोशान्ति का वातावरण बनेगा
  • प्रतिभाएं लाभान्वित होकर विकसित होगी
  • संगीत साधकों को रोजगार मिलेगा
  • बच्चों में संगीत का ज्ञान बचपन से विकसित होगा श्रोता की संख्या बढ़ेगी
  • संगीत से मानसिकता तंदुरुस्त होगी ।अपराध प्रवित्ति में बदलाव आएगा
  • स्वरों के प्रभाव से निरोगता का बातावरण बनेगा
  • संगीत साधना ईश्वरीय आराधना है बच्चों में धर्म के प्रति जागरूकता बढ़ेगी
  • बेरोजगार को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे
  • संगीत कला का विकाश और सम्मान बढेगा

वर्तमान में संगीत शिक्षा की स्तिथि


  • संगीत शिक्षा की युवाओं में अरुचि
  • स्कूल कालेजो में अनेक रिक्त पद
  • संगीत साधको में बेरोजगारी से संगीत की और रुझान कम
  • व्यवसायिक शिक्षा पर जोर
  • इन गिने स्कूल कालेजो में संगीत शिक्षा की व्यवस्था
  • संगीत डिग्रीधारी हतोत्साहित
  • प्रतिभाओं के विकास में रुकावट
  • प्राइवेट संगीत शिक्षा महंगी होने से गरीब प्रतिभाएं अविकसित
  • भारतीय संगीत को छोड़ पाश्चात्य की और युवाओं की दौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here