भगवान ने भी छोड़ा किसानों का साथ, बारिश ने निकाले आंसू

0
37

न्यूज़ एनसीआर, 11 अप्रैल-फरीदाबाद | इलाके में हुई तीसरी बरसात ने गेंहूँ उत्पादक किसानों के होश उडा कर रख दिए हैं। एक तरफ जहां अनाज मंडी में खुले आसमान के नीचे गेहूं भीग रहा है, तो दूसरी तरफ वहीं खेतों में कटी पड़ी व खड़ी फसल बरसात के कारण सडने की कगार पर पहुंच गई है। बरसात की मार झेल रहे किसान बर्बादी की कगार पर पहुंचने लगे हैं। शुक्रवार को क्षेत्र में भारी बरसात व आंधी के कारण किसानों की खेतों में खड़ी फसल पूरी तरह भीग गई थी तथा अनाज मंडी में खुले आसमान के नीचे पड़ा लाखों क्विंटल गेहूं भी बरसात की चपेट में आ गया था। अभी किसान फसल को सुखाने के प्रयास में लगे हुए थे कि सोमवार को फिर से हुई बारिश ने किसानों की नींद उड़ा दी।

किसानों के साथ मुसीबत न यहीं साथ नहीं छोड़ा बल्कि बुधवार को फिर हुई बरसात ने जले पर नमक छिडक़ने का काम किया। बुधवार की प्रात: फिर से मूसलाधार बारिश ने थोड़ी बहुत बची आस को धूमिल कर दिया। इतना ही नहीं बल्कि देर सांय फिर से बादल गरजने से किसानों की सांसों को थाम कर रख दिया है। खेतों में पड़ी फसल व मंडी में खुले में पड़े लाखों क्विंटल गेहूं को फिर बारिश ने तर कर दिया। गेहूं भीगा होने के कारण मंडी में खरीद भी कई दिनों से ठप पड़ी हैं। किसानों का कहना है कि बड़ी मेहनत करके व कर्ज लेकर फसल को तैयार किया था, लेकिन बारिश के एक झटके ने सब बराबर कर दिया। उल्लेखनीय है कि हथीन अनाज मंडी में अभी तक सवा तीन लाख क्विंटल गेहूं की आवक हो चुकी है, जिसमें इलाके के किसानों का कम बल्कि बाहरी क्षेत्र के किसानों का गेहूं ज्यादा शामिल हैं। इलाके के अधिकांश किसानों का गेहूं अभी तक खेतों में ही पडा हुआ है। किसानों को यह भी भय सताने लगा है कि चंद दिन बाद ही खरीद एजैंसी यह कहकर पल्ला झाड लेंगी कि खरीद पूरी हो चुकी। जबकि इलाके के किसानों का गेहूं कम खरीदा गया है और बाहरी क्षेत्र के किसानों का ज्यादा
आढ़तियों ने बैठक कर किसानों का गेहूं नहीं लेने का फैसला लिया

बुधवार को हथीन मंडी एसोसिएशन की बैठक में गेहूं नहीं खरीदने का फैसला लिया गया। बैठक में आढ़तियों ने कहा कि 5 अप्रैल के बाद मंडी में कोई सरकारी खरीद नहीं की गई। एसोसिएशन के प्रधान रबिन ने बताया कि हथीन मंडी में खरीद 2 अप्रैल से शुरू हुई थी। जबकि जिले की अन्य मंडियों में खरीद देर से शुरू की गई। उन्होंने बताया कि हथीन अनाज मंडी में जल्द खरीद शुरू होने के कारण जिले के आसपास के किसान भी मंडी में अपने गेहूं लेकर आए। इसलिए यहां पर आवक ज्यादा रही। अभी भी क्षेत्र के किसानों का आधा गेहूं खेतों में पड़ा हुआ है। बैठक में फैसला लिया गया कि जब तक सरकार खरीद शुरू नहीं करेगी, तब तक किसानों से गेहूं नहीं खरीदा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here