बालाजी कॉलेज में भारतीय नव वर्ष के उपलक्ष्य में छठी महाविद्यालयी प्रतियोगिता का आयोजन

0
74

न्यूज़ एनसीआर, 01 अप्रैल-फरीदाबाद | मलेरना रोड बल्लभगढ स्थित बालाजी कॉलेज में भारतीय नव वर्ष विक्रमी संवत 2075 के उपलक्ष्य में छठी महाविद्यालयी प्रतियोगिता का आयोजन किया। इसमें एक दर्जन भर महाविधालयों के छात्र-छात्राओं ने भाषण, कविता पाठ, सूर्य नमस्कार, सोलो डांस, पेंटिंग व डेकोरेशन साज-सज्जा में हिस्सा लिया। प्रतियोगिता में एन.सी.सी. के प्रणेता व चम्बल के डाकुओ का आत्मसमर्पण में आधार की भूमिका निभाने वाले डॉ.एस.एन. सुब्बाराव मुख्य प्रवक्ता के रूप में उपस्थित हुए।

डॉ. सुब्बाराव मुख्यतिथी कुलसचिव वाई.एम.सी.ए. विश्वविधालय डॉ. संजय कुमार शर्मा, गांधी शक्ति प्रतिष्ठान नई दिल्ली से रमेश शर्मा, प्रसिद्ध पर्यावरण वैज्ञानिक सुबोध नंदन, साहित्यकार ज्ञानेन्द्र रावत व बालाजी कॉलेज के निदेशक जगदीश चौधरी नेे द्वीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। डॉ. एस.एन. सुब्बाराव ने कहा कि विज्ञान ने बाहर की दुनिया में झांकने हेतू बडी-बडी दुरबीन बनाई प्ररन्तु अन्तर मन में झांकने हेतु स्ंवय को जानने में विज्ञान असमर्थ रहा है। मनुष्य एक ओर प्रकृति का श्रेष्ठतम प्राणी है वहीं दूसरी ओर उन्होने अनेको रेखाएं प्रथ्वी पर खेंची है जो हमे बांटती हैं। दो देशो के बीच रेखाएं धर्म की रेखएं हों या सीमा की आपस में अन्तर पैदा करती है।

कार्यक्रम के मुख्यातिथि वाई.एम.सी.ए. विश्वविधातलय के कुलसचिव डॉ.संजय कुमार शर्मा ने भारतीय संस्कृति व मानव चिंता को स्पष्ट करते हुए बताया कि किस प्रकार भारत विश्व गुरू कहलाया। उन्होने कहा कि दर्शन सत्य के साक्षात्कार की विधा है यह मानवीय चिंतन व व्यहवार का ठीक ठीक परिर्वतन कराता है शिक्षा का मुल उद्देश्य मानवीय व्यहवार में स्थायी सकारात्मक परिर्वतन ही है। बालाजी कॉलेज के निदेशक जगदीश चौधरी ने कहा कि भारतीय संस्कृति की विशालता विज्ञान व दर्शन की समझ हेतु प्रतियोगिता संस्कार 2018 का आयोजन किया गया है। प्रति वर्ष आयोजित किए जाने वाली इस प्रतियोगिता के द्वारा नई पीढी को सही दिशा देने व सर्व बेहतर निर्णय लेने हेतू वातावरण तैयार करना है। पेंटिग, भाषण प्रतियोगिता में रावल कॉलेज व सूर्य नमस्कार में एडवांस कॉलेज के छात्रों ने पोजीशन प्राप्त की। प्रतियोगिता में प्रथम आने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर वाई.एम.सी.ए. विश्वविधालय के प्रोफेसर प्रदीप डिमरी, एडवांस कालेज की प्राचार्य डॉ. लक्ष्मी शर्मा व बालाजी कॉलेज के प्राध्यापक संगीता सिंह, ऊषा डागर, दीपा अरोडा, दिनेश, बबलू हिमाशु व मनु नरवाल सहित सैकडों विधार्थी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here