निकिता बिटिया को काफी जद्दोहद के बाद मिला राम भरोसे अस्पताल से दिव्यांग प्रमाणपत्र

0
104

न्यूज़ एनसीआर, (प्रताप चौधरी) 25 अप्रैल-फरीदाबाद | पिछले कुछ दिनों पहले फरीदाबाद की एक बेटी निकिता की अरावली स्कूल की बस से सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गई थी, जिसमे निकिता बिटिया की एक टांग कट गई। उस समय निकिता बिटिया के इलाज़ के लिए स्कूल प्रशासन न ही कोई स्थानीय नेता मदद के लिए सामने आया था। बिटिया के परिवार की माड़ी हालत को देखते हुए फरीदाबाद के वरिष्ठ समाजसेवी बब रामकेवल ने आगे बढ़कर घायल बिटिया के इलाज़ के लिए आमजन से पैसों के रूप में मदद मांगकर बिटिया का दिल्ली के अपोलो अस्पताल में इलाज़ कराया जिसमे लगभग 60 लाख खर्चा आया था। जिसमें बाबा ने दिल्ली के एक विधायक से मदद मांग कर अस्पताल को खर्चा माफ़ कराया था।

बाबा रामकेवल ने निकिता बिटिया के अस्पताल के बाद भी हर तरह की मदद का वायदा भी किया था जिसे वह निभा भी रहे है। आपको बता दें की आज निकिता बिटिया के लिए बाबा ने दिव्यांग प्रमाणपत्र बनवाया है, ताकि निकिता बिटिया को भविष्य में मदद व् सुविधाएं मिल सके। बाबा रामकेवल ने बताया कि, यह प्रमाण फरीदाबाद के बीके अस्पताल से बनवाया है। उन्होंने बीके अस्पताल की पोल खोलते हुए बताया की वह सुबह लगभग 11 बजे से अस्पताल में निकिता के परिजनों के साथ 5 बजे तक जद्दोहद करते रहे तब जाकर उन्हें यह प्रमाणपत्र मिला।

उन्होंने अस्पताल की दयनीय हालत पर कहा कि, अस्पताल में सुविधाओं का बहुत ही अभाव है, न तो दिव्यांगों के लिए बैठने के लिए उचित व्यवस्था है और न ही पीने के लिए पानी। गर्मी से बचने के लिए एक कूलर जरूर है, परन्तु वह चलता नहीं है। उन्होंने डॉक्टर्स की लापरवाही पर दुःख प्रकट करते हुए कहा कि, अस्पताल में आये हुए मरीजों की ऐसी हालत है कि किसी को समझ ही नहीं आता की कहाँ जाएँ किससे मिलें, किस डॉक्टर्स मिलना है, लोग अपने मरीजों को लेकर अस्पताल में भटक रहे है। कोई अनाउसमेंट की व्यवस्था नहीं है। डॉक्टर को दिखाने आये मरीजों के नंबर से रीत ही नहीं है, जिसका दिल करे वह पास जबरन पहुँच जाता है।

अजीब विडंबना है हमारे देश कि, जिस देश माध्यम वर्ग की तादात सबसे ज्यादा है, उनको सरकारी अस्पताल में उचित व्यवस्था मोहैया नहीं कराई जाती है। न तो अस्पताल प्रबंधन को इस बात की फ़िक्र है और न ही स्थानीय नेताओं को। सब राम भरोसे चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here