केजीपी एक्सप्रेस हाईवे को लेकर केंद्रीय मंत्री गडकरी से मिले कांग्रेसी विधायक ललित नागर

0
38

न्यूज़ एनसीआर, 25 अप्रैल-दिल्ली | यमुना पर बने कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस-वे में तिगांव विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले 5 गांवों के ग्रामीणों को रास्ता दिए जाने की मांग को लेकर आज क्षेत्रीय कांग्रेसी विधायक ललित नागर ने केंद्रीय सडक़, परिवहन एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात कर उन्हें एक ज्ञापन सौंपते हुए इस पूरे मामले से अवगत करवाया।

ललित नागर ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि यमुना पर बन रहे केजीपी के दूसरे तरफ उनकी विधानसभा क्षेत्र के पांच गांव शाहजहांपुर खादर, फज्जूपुर, अरुआ, इमामुद्वीनपुर के किसानों की जमीनों को सरकार द्वारा अधिग्रहण किया गया था। उस दौरान किसानों ने यह शर्त रखी थी कि उनके खेत-खलिहान यमुना पार है इसलिए सरकार को उन्हें वहां जाने के लिए पुल पर से रास्ता देना होगा, उस दौरान उनकी बात पर सहमति जता दी गई परंतु जब पुल का निर्माण होने लगा तो ग्रामीणों को रास्ता नहीं दिया गया, जिससे पुल बनने के बाद ग्रामीणों को घरों से खेतों पर जाने-आने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता था, जिसको लेकर लोगों ने इसका विरोध किया और धरने-प्रदर्शन तक किए। करीब दो माह धरने प्रदर्शन करने के बाद भी किसानों की कोई सुनवाई नहीं हुई तो ग्रामीण बड़ा आंदोलन करने की रुपरेखा तैयार करने में लगे हुए है।

ललित नागर ने बताया कि पांच गांवों में हजारों परिवार अपने भरण पोषण के लिए अपने खेती पर निर्भर है इसलिए उन्हेें इस पुल पर रास्ता दिया जाना चाहिए। विधायक ललित नागर की बातों को ध्यान से सुनने के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने उनको इस प्रपोजल को मंजूर करते हुए कहा कि पुल से ग्रामीणों को रास्ता देने का प्रस्ताव पास करके इस पर काम शुरु कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि ग्रामीणों को पुल से रास्ता बनवाने का काम सीआरएफ (सेंट्रल रोड फंड) द्वारा किया जाएगा। विधायक ललित नागर ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का आभार जताते हुए कहा कि उनके इस फैसले से पांचों गांवों के ग्रामीणों को काफी राहत मिलेगी और वह बिना किसी परेशानी के अपने खेतों व घरों में आना-जाना कर सकेेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here