सूरजकुंड मेले की सांयकालीन प्रस्तुति में शूजात हुसैन खान ने शास्त्रीय संगीत से बांधा समां

0
69
न्यूज़ एनसीआर, 08 फरवरी-फरीदाबाद | कुदरत ने हर व्यक्ति को कोई न कोई हुनर जरूर दिया है। बशर्ते कोई उस हुनर को समझ सके या कोई उसके हुनर की पहचान समय रहते सही मंच उसके सही कद्रदानों तक पहुंचा सके।
यह विचार पर्यटन विभाग के सचिव विजय वर्धन ने आज 32वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला में आयोजित सांयकालीन सांस्कृतिक संध्या के अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहे।
उन्होंने कहा कि व्यक्ति अपने जीवन में अपने आस-पास के वातावरण और स्वयं में निहित गुणों से बहुत कुछ सीखता-समझता है। ऐसे में उसके भीतर के सर्वश्रेष्ठ गुण और उसकी प्रतिभा को जांच-परख कर यदि कोई व्यक्ति या मंच प्रोत्साहित कर दे तो वह व्यक्ति समाज में एक साधारण व्यक्ति न रह कर एक प्रतिष्ठित व्यक्तित्व हो जाया करता है। अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुण्ड हस्तशिल्प मेला भी ऐसे ही लोगों के लिए बनाया गया एक मंच है जहां उन्हें अपने अंदर छिपी विधा के अनुरूप राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पहचान मिलती है।
विजय वर्धन ने कहा कि सांयकालीन सत्र में शूजात हुसैन खान द्वारा दी गई शास्त्रीय गीत-संगीत की नायाब प्रस्तुति इस संबंध में स्टीक बैठती है, जिन्होंने अपने शास्त्रीय संगीत से न केवल अपने प्रदेश का अपितु देश का भी नाम इस क्षेत्र में दूर-दूर तक पहुंचाया है।
विजय वर्धन ने बतौर मुख्य अतिथि सभी गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में दीप प्रज्ज्वलन के साथ सांयकालीन सांस्कृतिक संध्या की विधिवत शुरूआत की। इस अवसर पर मेला प्रशासक श्री सुधांशु गौतम ने सांस्कृतिक संध्या में आए अतिथियों का अभिवादन करते हुए उनका आभार जताया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here