फरीदाबाद में हुए गैंगरेप को सुलझाने पर ‘मिशन जाग्रति संस्था’ ने क्राइम ब्रांच की टीम को किया सम्मानित

0
71

न्यूज़ एनसीआर, 21 जनवरी-फरीदाबाद | बहुत कम ऐसे लोग होंगे जिन्हें पुलिस कर्मियों द्वारा उठाई जा रही परेशानियों के बारे में पता हो। कितने लोगों को पता है की पुलिस वालों की ड्यूटी का कोई निश्चित समय नहीं होता दस घंटे की ड्यूटी करने के बाद भी जरुरत पड़ने पर उन्हें फिर से ड्यूटी पर वापिस बुला लिया जाता है। एक आम आदमी 8 घंटे की ड्यूटी कर अपने घर शाम को हर हालत में पहुँच जाता है लेकिन पुलिस का एक अधिकारी या जवान 16 से 24 घंटे तक भी ड्यूटी कर हर रोज अपने घर नहीं पहुँच पाता। थाने चौकी के तख्तों पर आपको सोते हुए तमाम पुलिस अधिकारी मिल जायेंगे। उन्हें ना तो कोई ओवरटाइम मिलता है और ना ही उन्हें भोजन उपलब्ध कराया जाता है। ऐसे ही जब भी कोई त्यौहार आता है, कोई जलसा, रैली या प्रदर्शन होता है तो सुचारू क़ानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस के जवानों को लगातार भूखे प्यासे घंटों खड़े रहने पर मजबूर होना पड़ता है। असामाजिक तत्वों या उग्र प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई करने पर कई बार उनकी जान भी खतरे में पड़ जाती है। देश में पुलिस को गाली देते हुए तमाम लोग मिल जाएंगे लेकिन अगर कोई पुलिसवाला जान जोखिम में डालकर किसी अपराधी को पकड़ता है तो लोग उस पुलिसकर्मी की तारीफ़ करने में भी सकुचाते हैं। हौसला बढ़ाने की जगह लोग पुलिस को मानसिक रूप से टार्चर करते हैं।

फरीदाबाद जिले की बात करें तो यहाँ जनसँख्या के हिसाब से पुलिस कर्मियों की संख्या बहुत कम है और पुलिसकर्मियों को कई कई तक फालतू ड्यूटी करनी पड़ती है। हाल में फरीदाबाद में एक गैंगरेप की बारदात हुई थी जिसमे कुछ शराबी युवकों ने एक युवती का अपहरण कर लिया और स्कार्पियो में उस लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया मामला गंभीर था। पुलसि के पास स्कार्पियो का पूरा नंबर भी नहीं था लेकिन दो दिन के अंदर पुलिस ने स्कार्पियो को खोज लिया और तीन आरोपी भी पकड़ लिए गए। इन्हे पकड़ने में फरीदाबाद की क्राइम ब्रांच की टीम ने अहम् भूमिका निभाई। रात दिन क्राइम ब्रांच के जांबाज बिना कुछ खाये पिए दर दर भटकते रहे।

उन्हें मेहनत का फल मिला और राजस्थान से स्कार्पियो बरामद हुई। क्राइम ब्रांच की टीम के इस कारनामे के कारण शहर में फरीदाबाद क्राइम ब्रांच की जमकर तारीफ़ शुरू हो गई। इस टीम की कमान एसीपी क्राइम राजेश चेची संभाल रहे थे और सेक्टर 21 पुलिस कार्यालय के पुलिस कमिश्नर अमिताभ सिंह ढिल्लों के रीडर के रूप में काम कर रहे इंस्पेक्टर नवीन कुमार भी टीम का साथ दे रहे थे। पूरी टीम को जल्द कामयाबी मिली जिसके बाद आज फरीदाबाद की एक पुरानी सामाजिक संस्था मिशन जागृति ने क्राइम ब्रांच की टीम को सम्मानित किया। संस्था के संस्थापक महासचिव प्रवेश मलिक ने कहा कि ये टीम शहर की असली हीरो है।

संस्था ने क्राइम ब्रांच के एसीपी राजेश चेची, इंस्पेक्टर नवीन कुमार, इंस्पेक्टर सत्येंद्र रावल, इंस्पेक्टर जितेंद्र यादव, इस्पेक्टर विमल कुमार सहित क्राइम ब्रांच की पूरी टीम को सम्मानित किया। इस मौके पर लोगों को सम्बोधित करते हुए एसीपी क्राइम राजेश चेची ने कहा कि पुलिस हमेशा ऐसे काम करती रहती है। ये मामला बड़ा था और हमारे सामने बड़ी चौनौतियाँ थीं लेकिन हमारी टीम ने उन चुनौतियों को स्वीकार किया और मामला जल्द सुलझा दिया गया। उन्होंने अपनी टीम की भी तारीफ़ की।

इस मौके पर इस्पेक्टर नवीन कुमार ने कहा कि हमारे जांबाज पुलिसकर्मियों को ये सम्मान देने के लिए मैं मिशन जागृति की संस्था को बधाई देता हूँ। उन्होंने कहा कि मीडिया हमारी कमियों को जल्द उजागर करती है लेकिन हमारे अच्छे कामों की तारीफ़ भी की जानी चाहिए, इससे हमारा हौंसला बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि पुलिस आपके बीच से ही है, हम किसी दूसरे देश से नहीं आये हैं।

उन्होंने कहा कि अगर हम अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दें तो अपराध अपने आप कम हो जायेंगे। इस मौके पर भाजपा नेता कविंद्र चौधरी, प्रेम कृष्ण आर्य, साहिल नम्बरदार, पार्षद मनोज नासवा, संस्था के संस्थापक मनोज पलावत, संस्था के अध्यक्ष सुभाष श्योराण, संस्था के कोषाध्यक्ष रितेश अरोड़ा, अवतार सिंह, कार्यक्रम के आयोजन में खास भूमिका निभाने वाले राजेश भूटिया, महेश आर्य, राजेश सिरोहिया सहित संस्था के कई पदाधिकारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here