युद्ध में मारे गए सैनिकों को मिले ‘शहीद’ का दर्जा

0
81

न्यूज़ एनसीआर, 18 दिसम्बर-दिल्ली | सेना व पुलिस में अगर कोई वीरगति को प्राप्त होता है तो “शहीद” शब्द का इस्तेमाल नहीं किया जाता, इस स्तिथि में सिर्फ “ऑपरेशन कैजुअल्टी” का प्रयोग किया जाता है। मिनिस्ट्री ऑफ डिफेन्स में ‘शहीद’ शब्द का इस्तेमाल नहीं होने पर पूर्व सैनिकों ने पीएम मोदी से भी सवाल किए। उनका कहना है कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद ही पीएम मोदी का 56 इंच सीना साबित हुआ था। लेकिन युद्ध में मारे गए सैनिकों के सम्मान में उनके लिए ‘शहीद’ शब्द का इस्तेमाल भी नहीं हो रहा है और ना ही मंत्रालय के पास ‘शहीद’ शब्द की कोई परिभाषा है।

इसको लेकर एक आरटीआई में यह खुलासा हुआ है कि, जब कोई जवान शहीद होता है तो उसे “शहीद” का दर्जा क्यों नहीं दिया जाता। युद्ध में मारे गए सैनिकों के सम्मान में उनके लिए ‘शहीद’ शब्द का इस्तेमाल भी नहीं हो रहा है और ना ही मंत्रालय के पास ‘शहीद’ शब्द की कोई परिभाषा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here