भारतीय प्रवासी परिषद् ने गुरमीत सिंह, प्रद्युम्न ठाकुर, रमता साह को न्याय दिलाने के लिए किया जंतर-मंतर पर प्रदर्शन

0
152

न्यूज़ एनसीआर, (अमित चौधरी) 28 सितम्बर-दिल्ली | भारतीय प्रवासी परिषद के साथ कई संस्थायों मद्देशिया समाज अन्य लोगो ने जंतर मंतर दिल्ली पर छात्र प्रदुम्न ठाकुर, छात्र रमता साह एवं गुरप्रीत सिंह के हत्यारों को फांसी के लिए प्रदर्शन किया। भारत के प्रत्येक राज्य व विदेशों में लगभग 5 लाख से 80 लाख भारतीय प्रवासी पंछी की तरह रहते हैं, जो देश व प्रदेश (राज्य) के विकास में अहम भूमिका निभाते हैं। हमें उनका सम्मान करना चाहिए। भारत के प्रत्येक राज्य के व्यक्ति प्रवासियों के लिए संरक्षक होता है और प्रवासी उस राज्य/ देश का सेवक, अतिथि होता है, यह भावना दोनों के लिए जरुरी है।

आज देश-प्रदेश के समाचार पत्र, टेलीविज़न, सरकार और राजनितिक पार्टियां भारतीय प्रवासियों / अप्रवासियों की चिंता कर रही हैं। तथा अतिथि देवो भव: के नारे को मजबूत कर रही है। क्योंकि देश-प्रदेश व विदेश में भारतीय प्रवासियों / आप्रवासियों का देश-प्रदेश के विकास व अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान होता है। हम सभी इस सच्चाई को भली-भांति जानते हैं, फिर भी देश / प्रदेश में कुछ असामाजिक तत्व ऐसे भी हैं जो भारत देश की परम्परा, संस्कृति को भूल जाते हैं और शर्मसार करने वाली हरकतें करते रहते हैं। उक्त वाक्य जंतर-मंतर पर भारतीय प्रवासी परिषद् के नेतृत्व में आयोजित पूरे देश में मौके पर भारी संख्या में उपस्थित प्रवासियों को संबोधित करते हुए संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय तिवारी ने कहे। भारतीय प्रवासी परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजय तिवारी ने गुरुग्राम प्रवासी छात्र प्रद्युमन ठाकुर, बिहार प्रवासी छात्रा रमता साह, दिल्ली प्रवासी गुरमीत सिंह आदि के साथ हुई घटना के विरोध में लगभग दहाड़ते हुए सीधे-सीधे सरकार को चेताया कि किसी भी देश का विकास प्रवासी के बिना संभव नहीं है। देश व राज्य में किसी भी पार्टी की सरकार बने, उन सरकारों को बनने के पीछे इन प्रवासी नागरिकों का महत्वपूर्ण योगदान होता है, इसलिए यह सरकार की जिम्मेदारी बन जाती है कि वह उनकी सुरक्षा, स्वाभिमान, स्वास्थ्य, उत्थान के लिए विशेष सहयोग व ध्यान दें।

 

डॉ. अजय तिवारी ने हाल ही में हुई घटनाओं पर वर्तमान सरकार पर साधा निसाना


राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय तिवारी ने अपने संबोधन में बताया कि दिल्ली प्रवासी गुरप्रीत सिंह की हत्या केवल इसलिए कर दी क्योकि उसने कुछ युवाओं को सिगरेट पीने से टोका था, गुरुग्राम में प्रवासी प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या कर दी जाती है और सरकार केवल जांच का एक झुनझुना पकड़ा कर कोई खास ठोस कार्रवाई नहीं करती, वही बिहार प्रवासी छात्रा रमता साह जो सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रही थी, को सुबह सैर के समय रिजवान नामक व्यक्ति के द्वारा छेड़छाड़ का विरोध करने पर उसका सामूहिक बलात्कार करने के बाद पूरे शरीर पर तेजाब डालकर हत्या कर दी जाती है और केवल एफआईआर दर्ज करने की खानापूर्ति करने के बाद कोई ठोस कार्रवाई नहीं होती। देश के विभिन्न राज्य में हुई प्रवासियों के साथ दुखद घटनाओं के मद्देनजर भारतीय प्रवासी परिषद ने प्रवासियों/आप्रवासियों चाहे वो भारत देश से बाहर रहते हों या देश में किसी भी राज्य में रहते हों उनके सम्मान सुरक्षा व स्वाभिमान की रक्षा एवं एकता तथा गरीब मजदूर, गरीब विद्यार्थी, बुज़ुर्ग व्यक्ति के उत्थान के लिए भारतीय प्रवासी परिषद का निर्माण किया है।

गुरमीत सिंह की हत्या के मामले में भारतीय प्रवासी परिषद् करेगी कोर्ट में पैरवी


संस्था के महत्वपूर्ण सदस्य राष्ट्रीय सचिव पंकज सिंह ने बताया कि गुरुग्राम में हुई प्रदुमन ठाकुर की हत्या तथा पिछले हफ्ते हुई गुरमीत गुरमीत सिंह की हत्या के मामले की पैरवी कोर्ट में भारतीय प्रवासी परिषद् की तरफ से उनकी ही संस्था के उपाध्यक्ष वकील विजय भास्कर वर्मा करेंगे। जंतर मंतर पर हुए इस आक्रोश प्रदर्शन में उपस्थित संख्या को देखते हुए प्रशासन की तरफ से भी भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद था।

इस मौके पर विजय भास्कर वर्मा – लीगल वाईस प्रेजिडेंट, गिरीश शाह – दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष, डॉ उमेश मिश्रा – प्रदेश प्रभारी, डॉ कुंदन सिंह – डॉ सेल अध्यक्ष , दुर्गा प्रसाद, संजय कानू, रविंद्र मद्देशिया एवं “अखिल भारतीय मद्देशिया समाज” मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here