अदालत में अंधाधुंद गोलियां चलाने वाले आरोपी को सीआईए ने किया गिरफ्तार

0
166

फरीदाबाद 19 अगस्त (सन्नी) | महिला के कपडे पहनकर अदालत के बाहर अंधाधुंद गोलियां चलाने वाले आरोपी को सीआइए ने गिरफ्तार कर लिया है। इसमें एक वकील समेत आठ लोगों को गोलियां लग गई थी और संजीत नाम के युवक की हत्या हो गई थी।

आपको बता दें की यह मामला मार्च 2017 का है, आरोपी हाल ही में दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा था। अब रोहतक सीआइए-वन ने उसे प्रोडक्शन वारंट पर लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। अभी तक की पूछताछ में आरोपी ने हत्या और हत्या के प्रयास के पांच खुलासे कर दिए हैं। सीआइए के एसआइ विनोद ने बताया कि प्लोटरा से जब पूछताछ की गई तो उसने बताया कि जब वह पांच साल का था तो गांव बोहर के सुरेश उर्फ कुक्की ने उसके चाचा की हत्या कर दी थी। जिसके बाद उसने 12वीं पास करने के बाद हथियार उठा लिए और सबसे पहले उसने सुरेश उर्फ कुक्की की हत्या की। यह हत्या आरोपी ने वर्ष 2011 में की थी। जिसके बाद उसे उम्रकैद की सजा हो गई। जेल में उसकी दोस्ती अपराधिक प्रवृत्ति के लोगो के साथ हुई।

आरोपी सुमित उर्फ प्लोटरा निवासी बोहर ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसे रमेश लुहार की हत्या करने के लिए उसके गांव के राजे ने भेजा था। उसके साथ दरियापुर निवासी संदीप उर्फ पादू भी था। संदीप जींस और शर्ट में था, जबकि प्लोटरा ने महिला के कपड़े पहने हुए थे। आरोपी ने बताया कि राजे इसलिए रमेश लुहार की हत्या करना चाहता है, क्योंकि रमेश लुहार ने राजे के भाई काले पर हमला कराया था।

11 सितंबर 2016 को गांव जदरान में दो गैंग के बीच में गैंगवार हुई थी। जिसमें मनीष उर्फ भंडारी को कई गोलियां मारी गई थी। इस मामले में आरोपी अजीत, सुखचैन, विक्की उर्फ बॉक्सर, रवि बागड़ी, राजकुमार व नसीब को गिरफ्तार किया गया था। अब प्लोटरा ने बताया कि उसने अपने साथियों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here