हरियाणा स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में “पुस्तक मेले” व “संगीत महोत्सव” का भव्य प्रचार-प्रसार आरम्भ

0
226

न्यूज़ एनसीआर, फरीदाबाद | हरियाणा स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में हरियाणा ग्रंथ अकादमी एवं संस्कार भारती फरीदाबाद द्वारा पुस्तक मेले व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन डी.ए.वी. स्कूल सेक्टर-14 (फरीदाबाद) में आगामी 27 से 30 जुलाई को आयोजित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा घोषित छह पुस्तक मेलों में से “हरियाणा ग्रंथ अकादमी” द्वारा आयोजित यह तीसरा पुस्तक मेला होगा। ग्रंथ अकादमी के कार्यक्रम अधिकारी व पुस्तक मेला संयोजक श्री राकेश जी ने बताया की इस पुस्तक मेले में लगभग 40 पुस्तक मंडप लगाए जाएंगे। इसके अतिरिक्त हरियाणा ग्रंथ अकादमी का अपना पुस्तक मंडप भी होंगा।

कार्यक्रम को और भी अधिक रोचक व उत्साहवर्धक बनाने के लिए इसमें विचार गोष्ठी, शोध गोष्ठी, कार्यशाला, काव्य गोष्ठी, प्रश्नोत्तरी, चित्रकला एवं गायन कला प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जायेगा। इसके साथ ही रंगमंच एवं कलाओं के प्रति समर्पित अखिल भारतीय संस्था “संस्कार भारती” फरीदाबाद इकाई द्वारा तीन दिवसीय राज्यस्तरीय “युवा संगीत महोत्सव” का भी भव्य आयोजन किया जायेगा।

इन कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार हरियाणा ग्रंथ अकादमी द्वारा किया जा रहा है। योजना के अनुसार अकादमी आपपास के करीब 25 गाँवों में प्रतिदिन साहित्यिक गोष्ठियों का आयोजन करेगी। इन गोष्ठियों में गाँव के सरपंच के नेतृत्व में सभी ग्रामवासियों, स्कूल के अध्यापकगण एवं छात्रों को इनमें आमंत्रित किया जाएगा। भारतीय सनातन संस्कृति, पुस्तकों एवं ग्रंथों के महत्व को जन-जन तक पहुंचाने के लिए ग्रंथ अकादमी की एक ऑडियो-विज़ुअल वैन आधुनिक उपकरणों के साथ गाँव-गाँव और गली-गली लोगों तक जाएगी।

इस कार्यक्रम की प्रचार श्रृंखला में गुरूवार को पहली कड़ी गाँव भनकपुर रहा। जहाँ गाँव के युवा नेता व सरपंच सचिन मण्डोतिया ने हरियाणा ग्रंथ अकादमी और संस्कार भारती फरीदाबाद की टीम का बड़े हर्षोउल्लास के साथ स्वागत किया। गाँव भनकपुर के सरकारी स्कूल में आयोजित इस गोष्ठी की शुरुआत रागनी की प्रस्तुति के साथ हुई। कार्यक्रम में सभी ग्रामवासियों, अध्यापकों व स्कूल के छात्र-छात्रों को सम्बोधित करते हुए गांव के सरपंच सचिन मण्डोतिया ने कहा की आज की आधुनिक शिक्षा प्रणाली पूर्ण रूप से दोषयुक्त है।

उन्होंने कहा की आज भी हमारे स्कूलों में लार्ड मेकाले की शिक्षा पद्धति का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। आज हमारे युवा सनातन संस्कृति, अपने ग्रंथ व साहित्य आदि से अनभिज्ञ है। इसी प्रकार हम खान-पान व पहनावे में भी पाश्चात्य संस्कृति का ही अनुशरण कर रहें हैं। आज हमें इन सब परिस्थितयों से बाहर निकलने की जरुरत है, और इस कार्य में नींव के पत्थर की भूमिका “हरियाणा ग्रंथ अकादमी” निभा रही है। मेरी सभी से गुज़ारिश है की हरियाणा ग्रंथ अकादमी द्वारा आयोजित कार्यक्रम जो आगामी 27 से 30 जुलाई तक डी.ए.वी. स्कूल सेक्टर-14 में होने जा रहा है, में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचे और अपनी संस्कृति, ग्रंथ एवं साहित्यिक पुस्तकों का अध्धयन करें। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए श्रीमति सुरेखा जैन ने हरियाणा के गरिमामय इतिहास और परम्पराओं की विस्तृत व्याख्या की।

कलाकारों की प्रस्तुति पर झूम उठा सभागार

कार्यक्रम में लोक संस्कृति की झलक के लिए नगाड़ों व लोक कलाकारों की प्रस्तुति का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत व अंत में सभी कलाकारों ने अपने संगीत साज के साथ नगाड़ों को बजाकर लोक गीत गाए। लोक संस्कृति की भव्य प्रस्तुति पर ख़ुशी प्रकट करते हुए दर्शक भी झूम उठे।

कार्यक्रम के अंत में ग्रंथ अकादमी के कार्यक्रम अधिकारी तथा पुस्तक मेला संयोजक श्री राकेश जी ने सभागार में उपस्थित सभी ग्रामवासियों, अध्यपकों, छात्र-छात्राओं व कलाकारों का ह्रदय तल से आभार प्रकट किया। इस अवसर पर मंच संचालन फरीदाबाद के जाने माने कवि श्री सुमोद चरौरा जी ने किया। इस अवसर पर संस्कार भारती फरीदाबाद की संगीत विधा को समर्पित तानसेन इकाई की सह-संयोजिका श्रीमति एकता रमन भी मौजूद रहीं। इसके साथ ही आपको यह जानकारी देते हुए भी हमें गर्व महसूस हो रहा है की इस पुस्तक मेले व संगीत महोत्सव के मीडिया सहभागी के रूप में “न्यूज़ एनसीआर” अपने पाठकों के साथ रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here