हरियाणा के चार मुख्य संसदीय सचिवों ने मुख्यमंत्री को सौंपा अपने पद से इस्तीफा

0
145

न्यूज़ एनसीआर, चंडीगढ़। राजनिति के मैदान में सवैंधानिक दाव-पेंचों के चलते हरियाणा की सियासत भी अब अछूती नहीं रही है। ज्ञात रहे की एडवोकेट जगमोहन सिंह भट्टी की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने पांच जुलाई को प्रदेश के चार मुख्य संसदीय सचिवों (सीपीएस) की नियुक्ति को असवैंधानिक करार देते हुए इन्हें हटाने का आदेश दिया था। इसी के चलते मंगलवार सायं इन चारों मुख्य संसदीय सचिवों जिसमें बड़खल की विधायक सीमा त्रिखा, हिसार के विधायक डॉ. कमल गुप्ता, असंध के विधायक बख्शीश सिंह विर्क एवं रादौर के विधायक श्याम सिंह राणा आदि ने मुख्यमंत्री को अपने पद से इस्तीफा सौंप दिया। आपको बता दें की तीनों विधायकों ने मुख्यमंत्री से मुलाक़ात कर उनको इस्तीफा सौंपा था वहीँ बड़कल की विधायक सीमा त्रिखा ने अपने जिले से ई-मेल के जरिये मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेजा।

इससे पहले राज्य सरकार ने हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की अनुमति मांगी थी। लेकिन इन मुख्य संसदीय सचिवों के इस्तीफे के बाद इन सभी अटकलों से पर्दा उठ चुका है। जस्टिस एस.एस. सरों और जस्टिस दर्शन सिंह की खंडपीठ ने मामलें की सुनवाई करते हुए सीपीएस की नियुक्तियों को अंसवैधानिक करार दिया था। इन सभी मुख्य संसदीय सचिवों ने 23 जुलाई 2015 को पद एवं गोपनीयता की शपथ ली थी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here