दहेज़ के लालच में पत्नी को जलाया, अस्पताल में हुई मौत

0
120

न्यूज़ एनसीआर, फरीदाबाद। समाज को शर्मसार कर देने वाली ये घटना अलीगढ जिले के गढ़खेड़ा गांव से है, दहेज़ के लोभी इस कदर समाज में है की उन्हें न तो समाज का डर है और न कानून का। ऐसी ही दिल दहला देने वाली ये घटना हुई मासूम पिंकी के साथ जिसको दहेज़ के लोभियों ने आग के हवाले कर दिया।

पिंकी के पिता रामबीर शर्मा ने बताया की उन्होंने पिंकी की शादी 2011 में विष्णु पुत्र योगेश शर्मा निवासी लक्ष्मीनगर से की थी और अपनी हैसियत के हिसाब से जो बन पड़ा उन्होंने किया, शादी में करीब 7 लाख खर्च किये, पर पिंकी के ससुराल वाले उसको दहेज़ के लिए परेशान करते रहते थे। इसके बावजूद भी वह बेटी की खुशी और उसे मानसिक प्रताड़ना से बचाने के लिये समय समय पर रुपए और सामान देते रहे, परन्तु उनकी डिमांड बढ़ती ही जा रही थी। पिंकी की शादी में जो मोटरसाइकल दी थी वो उससे खुश नहीं थे, वो मारुती स्विफ्ट कार की मांग करते थे।

वर्ष 2013 में पिंकी को एक बेटी हुई और उसके एवज में वो लोग 1 लाख और 10 तोला सोना मांग रहे थे, और कहते थे की अगर नहीं दिए तो उसकी बेटी को मार देंगे। बेटी खुश रहे इसके लिये उन्होने वर पक्ष को 50 हजार रुपए, 5 तोला सोना और करीब 30 हजार के कपडे वगैरह दिए। इसके बाद भी पिंकी के ससुराल वालों का पेट नहीं भरा और वह पिंकी को बात-बात पर ताने और मार पिटाई करते रहे।

25 जुलाई को मथुरा (लक्ष्मीनगर से फोन आया) की पिंकी जल गई है और उसे दिल्ली सफदरजंग अस्पताल ला रहे है और उसकी हालत बहुत नाजुक है। पिंकी के परिवार वालों ने मथुरा में रिपोर्ट लिखवाने की कोशिश की लेकिन रिपोर्ट दर्ज नहीं हो पाई। लेकिन पिंकी के घरवालों के अनुसार दिल्ली में महिला आयोग ने बयान दर्ज कर लिए हैं।

90% जलने के कारण कल रात यानी 28 जुलाई को पिंकी की मृत्यु हो गयी और इस तरह एक और मासूम दहेज़ के लोभियों की शिकार बन गयी। अजीब विडंबना है की समाज के ठेकेदार एक तरफ तो बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के नारे लगाते है और दूसरी तरफ नारी जाति पर इस तरह के जघन्य और निन्दनिय अपराध करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here