फरीदाबाद नगर निगम में भ्रष्टाचार को लेकर मची खलबली, रतन लाल रोहिल्ला को मिलेगा न्याय

0
73

न्यूज़ एनसीआर, फरीदाबाद । हरियाणा सरकार ने भ्रष्टाचार के विरुद्ध कड़ा रुख अपनाते हुए फरीदाबाद नगर निगम के घोटालों की जांच गुरूग्राम मंडलायुक्त की अध्यक्षता में कराने का निर्णय लिया है. हरियाणा सरकार के इस निर्णय का जोरदार स्वागत करते हुए भ्रष्टाचार विरोधी मंच ने इस मामले में अहम भूमिका निभाने वाले राज्य के उद्योग मंत्री विपुल गोयल और शहरी स्थानीय निकाय मंत्री का भी आभार व्यक्त किया।

मंच ने हरियाणा सरकार की भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टालरेंस पालिसी की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के का भी विशेष तौर से आभार व्यक्त है। मंच ने सरकार के इस निर्णय के बाद अपने आंदोलन को समाप्त करने का भी एलान कर दिया है। मंच का एक शिष्टमंडल अपने पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार शनिवार दोपहर बाद उद्योग मंत्री विपुल गोयल से उनके स्थानीय सेक्टर 16 स्थित कार्यालय में मिला और इस सम्बन्ध में बातचीत की।

उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने मंच के शिष्टमंडल को बताया कि मंडलायुक्त के द्वारा की जाने वाली नगर निगम के घोटालों की जांच के लिए मुख्यमंत्री ने औपचारिक आदेश दिये हैं।  उन्होंने बताया कि जांच में मंडलायुक्त की सहायता के लिए अधिकारियों की टीम भी लगाई जायेगी। नगर निगम में पूर्व में पदस्थ रहे अधिकारियों को जांच से दूर रखने के मंच के अनुरोध पर उद्योग मंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार की भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टालरेंस पालिसी है, अतः सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि मंच के द्वारा लगाए गए सभी गंभीर आरोपों की जांच में किसी भी प्रकार की कोई कमी ना रहे। उन्होंने मंच शिष्टमंडल को विश्वास दिलाया कि जांच के दौरान यदि उसे प्रभावित करने की कोशिश की गई तो सरकार जांच कमेटी में भी बदलाव कर सकती है।

श्री गोयल ने यह भी जोर देकर कहा कि जांच में दोषी पाए जाने वाले किसी भी अधिकारी को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जायेगा और यदि रतन लाल रोहिल्ला के साथ कुछ गलत हुआ है तो उनके साथ भी उचित न्याय किया जायेगा।  उन्होने कहा कि फरीदाबाद नगर निगम के संपूर्ण सिस्टम को पारदर्शितापूर्ण और जनहितैषी बनाने के लिए हरियाणा सरकार तेजी से आवश्यक कदम उठायेगी।

इस मौके पर मंच प्रवक्ता वरूण श्योकंद ने इस सम्बन्ध में सोशल मीडिया पर शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन के द्वारा जारी व्यक्तव्य की प्रतियां भी जारी करते हुए एलान किया कि भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए “भ्रष्टाचार विरोधी मंच” हरियाणा सरकार की आगे आकर सहायता करेगा।  उन्होंने कहा कि मंच के 56 दिनों के सत्याग्रह और अनशनकारी बाबा रामकेवल के 16 दिनों के आमरण अनशन के दौरान भ्रष्टाचार विरोधी जंग में उल्लेखनीय भूमिका निभाने वाले सभी संगठनों व व्यक्तियों को सम्मानित करने के लिए और भ्रष्टाचार को बर्दाश्त न करने के प्रति आम नागरिकों में जागरूकता लाने के उदेश्य से बहुत जल्दी एक कार्यक्रम का आयोजन भी किया जायेगा।

इस अवसर पर सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता पदमश्री डा. ब्रहमदत्त, अनशनकारी बाबा रामकेवल, रतन लाल रोहिल्ला, वरूण श्योकंद, ज्ञानेन्द्र चंदीला, आकाश हंस, रिषी भारद्वाज, मिर्जापुर के पूर्व सरपंच धीरज यादव, समाज सेवी हरबीर तेवतिया,एम.पी.नागर एडवोकेट, एस.के. जोशी एडवोकेट, जसवंत पंवार, शाहाबीर खान, धीर सिंह, हर्ष सैनी, रवि सिंह एवं अभिषेक श्रीवास्तव आदि शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here