जुनैद हत्यकांड में एक आरोपी की जमानत याचिका मंजूर

0
79

न्यूज़ एनसीआर, फरीदाबाद। ज्ञात होगा 22 जून को ग़ाज़ियाबाद – मथुरा ई.एम.यू शटल मे हुआ जुनैद मर्डर हादसे में ग्रिफ्तार किये गए 6 आरोपियों में से एक आरोपी चंद्रप्रकाश जो की पिछले एक महीने से जेल में बंद था, उसकी एडिशनल सेशन जज वाई.एस. राठौर की अदालत ने आरोपी चन्द्रप्रकाश की जमानत याचिका को स्वीकार कर लिया। और मुख्या आरोपी भमरौला निवासी नरेश को बताया गया है जो की अभी जेल में बंद है। इसके साथ ही खाम्बी गाँव के रामेश्वर, गौरव, प्रदीप व जोधपुर गाँव का रमेश भी जेल में है। जी.आर.पी. के इंस्पेक्टर अजय ने बताया कि चन्द्रप्रकाश की जमानत याचिका मंजूर होने की उनके पास भी सूचना है।

अन्य किसी आरोपी की याचिका के बारे में उन्हें अदालत से कोई सूचना नहीं है। जमानत याचिका पर अभियोजन पक्ष एवं आरोपी पक्ष के वकीलों के बीच खासी बहस हुई। आरोपी चन्द्रप्रकाश के वकील का कहना था कि उनका मुव्वकिल इस मामले में पूरी तरह निर्दोष है और उस पर सीधे रूप में हत्या के भी कोई चार्ज नहीं है। जमानत याचिका की बहस के दौरान जी.आर.पी. के जाँच अधिकारी भी मौजूद रहे।

चन्द्रप्रकाश की जमानत याचिका मंजूर होने के बाद अब खाम्बी गाँव के अरेस्ट किये गए अन्य आरोपियों की जमानत याचिकाएं भी अदालत में डाले जाने की तैयारी हो चुकी है। खाम्बी गाँव में हुई महापंचायत के संयोजक रतन सिंह सौरोत का कहना है की अब अन्य आरोपियों की जमानत याचिकाएं भी कागजात पूरा करके सोमवार अथवा मंगलवार को दाल दी जायेगीं। वहीँ अभी मुख्य अभियुक्त नरेश की जमानत याचिका डाले जाने का कोई फैंसला नहीं हुआ है। उसने कथितरूप से इकबालिया बयान दिए हुए हैं।

अब प्रदीप, गौरव एवं रामेश्वर की जमानत याचिकाएं डाली जाएँगी। जोधपुर गाँव के रमेश के परिजन भी उसे निर्दोष बता रहे हैं। सर्वप्रथम इस मामले में जी.आर.पी. ने रमेश को ही अरेस्ट किया था। जुनैद प्रकरण में एक ओर जहाँ आरोपी पक्ष विधि कार्यवाही में जुटा है वहीँ इस मामले को अभी भी पंचायती स्तर पर सुलझाने के भी प्रयास तेज कर दिए गए हैं। खाम्बी महापंचायत के संयोजक रतन सिंह सौरोत ने बताया कि पलवल और फरीदाबाद की गंगा-जमनी मिश्रित संस्कृति है। यह इलाका सर्वधर्म सदभाव की मिशाल है।

जुनैद का मर्डर अनायास हो गया। उसके मर्डर पर ना केवल खाम्बी की महापंचायत बल्कि भमरौला गाँव में हुई महापंचायत के पंचों ने दुःख जताया है। उसके गाँव खन्दावली स्थित घर जाकर उन्हें सान्तवना भी दी है। खन्दावली पूर्व में ब्राह्मण बाहुल्य गाँव बघौला से निकला है। आज भी उनके अच्छे रिश्ते हैं। इसके अलावा खन्दावली गाँव के सम्बन्ध झाड़सैंतली गाँव के लोगो से हैं। वो चाहते हैं इन्हीं संबंधों के चलते इस मामले को सदभाव के साथ पंचायती स्तर पर निपटाया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here